भिवाड़ी पुलिस की 5 घण्टे की मुस्तैदी ने लापता चार साल की अनन्या को माता-पिता से मिलाया

भिवाड़ी पुलिस की 5 घण्टे की मुस्तैदी ने लापता चार साल की अनन्या को माता-पिता से मिलाया
5-hour-vigilance-of-bhiwadi-police-introduced-missing-four-year-old-ananya-to-parents

अलवर, 24 फरवरी(हि.स.)।। भिवाड़ी पुलिस की मुस्तैदी ने मंगलवार की दोपहर लापता हुई एक चार साल की बच्ची को ढूंढ कर उसके माता-पिता से मिलाया। पुलिस की इस कार्यशैली परिजनों सहित आमजन ने सराहना की। वही बच्ची से मिलकर परिजन भी भावविभोर हो उठे उन्होंने भिवाड़ी पुलिस को धन्यवाद दिया। भिवाड़ी फेज थर्ड थानाधिकारी सुरेंद्र कुमार ने बताया कि 23 फरवरी की दोपहर सांथलका सतवीर कालोनी निवासी सोनी पत्नी पंकज पांडे ने थाने में आकर रिपोर्ट थी कि उनकी 4 वर्षीय बच्ची अनन्या दोपहर को कॉलोनी में खेलती हुई लापता हो गई। पुलिस ने मामले की गंभीरता को देखते हुए उच्च अधिकारियों को इसकी सूचना दी। भिवाड़ी एसपी राममूर्ति जोशी निर्देशन में पुलिस की छोटी-छोटी टीम बनाकर बच्ची को ढूंढने का कार्य किया गया। इस दौरान पुलिस की 5 घंटे के कड़ी मशक्कत के बाद बच्ची को यादराम कालोनी से बरामद किया गया। बच्ची को ढूंढने के लिए पुलिस ने लिया सोशल मीडिया का सहारा चार वर्षीय अनन्या को घूमने के लिए पुलिस ने सोशल मीडिया का सहारा लिया। सोशल मीडिया पर अनन्या की फोटो और वीडियो शेयर की गई। बच्ची को देखने वालों को तुरंत पुलिस को सूचना देने की अपील पुलिस द्वारा लोगों से की गई। गुब्बारे बेचने वालों ने बताया तब मिली अनन्या भिवाड़ी पुलिस को सुराग मिला की अनन्या को केपिटल मॉल के सामने देखा गया है। सूचना पर पुलिस मॉल पहुंची और वहां लगे सीसीटीवी कैमरों की जांच की। जहाँ अनन्या गुब्बारा बेचने वाले बच्चों के साथ खड़ी दिखाई दी। पुलिस ने तुरंत गुब्बारे बेचने वाले सेक्टर 3 निवासी बच्चों से संपर्क कर अनन्या के बारे में जानकारी जुटाई। बच्चों ने बताया कि वह शाम तक उनके साथ थी लेकिन शाम को घर आने पर वह उसे यादराम कॉलोनी में छोड़ आए। पुलिस बच्चों की सूचना पर तुरन्त याद राम कॉलोनी पहुंची। जहां मुन्नी देवी पत्नी कृष्ण गुप्ता के पास बच्ची मिली। पुलिस ने बच्ची को बरामद कर उनके परिजनों को सुपुर्द कर दिया। लापता अनन्या को ढूंढने के लिए पुलिस ने बनाई छोटी-छोटी टीम भिवाड़ी एसपी के निर्देशन में पुलिस अधिकारियों ने अनन्या को ढूंढने के लिए पुलिसकर्मियों की छोटी-छोटी कई टीम बनाई गई। इस टीम में दो-दो जवानों को लगाया गया। इसके लिए पुलिस लाइन से 10 अतिरिक्त जवानों को भी काम में लगाया गया। सभी जवान करीब एक दर्जन कॉलोनियों में डोर टू डोर घूमे। इसके अलावा बस स्टैंड, टेंपो स्टैंड और मंदिरो आदि स्थानों पर बच्ची की फोटो लेकर लोगों से पूछताछ की गई। हिन्दुस्थान समाचार/मनीष/संदीप