शाहजहांपुर खेड़ा बॉर्डर पर किसानों के 100 दिन पूरे, 28 को होली के दिन जलाएंगे कृषि बिल की होली

शाहजहांपुर खेड़ा बॉर्डर पर किसानों के 100 दिन पूरे, 28 को होली के दिन जलाएंगे कृषि बिल की होली
100-days-of-farmers-on-shahjahanpur-kheda-border-28-days-will-burn-holi-on-agricultural-bill-on-holi-day

अलवर, 24 मार्च (हि. स.)। केन्द्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ जिले के शाहजहांपुर खेड़ा बॉर्डर पर धरना दे रहे किसानों के धरने को बुधवार को 100 दिन पूरे हो गए। किसान तीनों कृषि कानून वापस लेने की मांग कर रहे हैं। अब किसानों ने 26 मार्च को देशव्यापी बंद का आह्वान किया है। 28 मार्च को होली के मौके पर किसान नए कृषि कानून की प्रतियां जलाएंगे। सौ दिन से किसान सर्दी, गर्मी, बारिश-तूफान का सामना करते हुए धरना दे रहे हैं। इसके बावजूद अब दोबारा किसान नए उत्साह के साथ एकजुट हो रहे हैं। शाहजहांपुर-खेड़ा बॉर्डर पर संयुक्त किसान मोर्चा के धरने को 100 दिन पूरे होने पर धन्यवाद ज्ञापन दिवस मनाया गया। इस दौरान बॉर्डर के मोर्चे पर आंदोलन के सहयोगी और सहभागी रहे आस-पास के सभी स्थानीय रहवासियों, ग्रामीणों, किसानों, पेट्रोल पम्पों के मालिकों-कर्मचारियों, बुद्धिजीवियों एवं व्यापारियों आदि का उनके अमूल्य योगदान के लिए संयुक्त किसान मोर्चा और देश के तमाम किसानों की ओर से धन्यवाद ज्ञापित किया गया। अब यहां संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर 26 मार्च को होने वाले भारत बंद के लिए तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं। राज्य के सभी हिस्सों में बंद को लेकर मीटिंग, कन्वेंशन और जनसम्पर्क अभियान चलाकर तैयारियां की जा रही हैं। आंदोलन के अगले कदम के रूप में 28 मार्च को होलिका दहन पर तीनों किसान विरोधी कानूनों की होली जलाकर मोदी सरकार को चेतावनी दी जाएगी। किसानों की तरफ से 26 मार्च को भारत बंद का आह्वान किया गया है। इसके तहत किसान नेता लोगों को किसान आंदोलन से जोडऩे का काम कर रहे हैं। साथ ही सरकार की किसान विरोधी नीतियों के बारे में लोगों को जानकारी दी जा रही है। इस दौरान जयपुर-दिल्ली नेशनल हाईवे, जयपुर-आगरा नेशनल हाईवे समेत अन्य नेशनल व स्टेट हाईवे को बंद किया जाएगा। सभी मंडी और बाजारों को बंद कराया जाएगा। इसके लिए किसानों की तरफ से खास तैयारी की गई है। अलग-अलग समितियां बनाई गई हैं जो विभिन्न क्षेत्रों में किसानों व लोगों के संपर्क में है। देश के अलग-अलग हिस्सों से लगातार किसान अपना विरोध दर्ज कराने के लिए अलवर पहुंच रहे हैं। केरल, पश्चिम बंगाल, गुजरात, मध्य प्रदेश, कर्नाटक सहित देश के विभिन्न राज्यों के शहरों से हजारों की संख्या में किसान शाहजहांपुर खेड़ा बॉर्डर पहुंच चुके हैं। हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/संदीप

अन्य खबरें

No stories found.