सिणली में पंचायत में भारी चूक: दुबारा मतदान की मांग
सिणली में पंचायत में भारी चूक: दुबारा मतदान की मांग
राजस्थान

सिणली में पंचायत में भारी चूक: दुबारा मतदान की मांग

news

जोधपुर, 15 अक्टूबर (हि.स.)। जिले की धवा पंचायत समिति की ग्राम पंचायत सिनली के पंचायत चुनाव में प्रशासन की भारी चूक सामने आई है। इसके कारण पंचायत के विलोपित सूची के सैकड़ों मतदाताओं ने दोहरा मतदान कर दिया। गंभीर अनियमितता और धांधली के कारण दूूषित हुई चुनाव प्रक्रिया को निरस्त कर दुबारा मतदान करवाने की मांग की गई है। पराजित हुई प्रत्याशी अनु और धमली देवी ने गुरुवार को इस सम्बन्ध में राज्य निर्वाचन आयुक्त, संभागीय आयुक्त, जिला निर्वाचन अधिकारी, उपखण्ड अधिकारी लूणी, रिटर्निंग अधिकारी के नाम जिला कलक्टर को ज्ञापन सौंपा। मामले के अनुसार ग्राम पंचायत सिनली में वार्ड संख्या-1 से 5 यानी कुल पांच वार्ड हैं। छह अक्टूबर को यहां पर बूथ संख्या 40, 41, 42 में मतदान हुआ था। ग्राम पंचायत के सभी पांच वार्डों की मतदाता सूची में बड़ी संख्या में ऐसे नाम हैं, जिन्हें उस वार्ड से विलोपित कर अन्य वार्ड में शिफ्ट किया गया है। ऐसे नाम उस वार्ड की मतदाता सूची के अंत में विलोपित सूची शीर्षक से भी प्रकाशित हैं और शिफ्ट किए गए नए वार्ड की मतदाता सूची में भी प्रकाशित हैं। यानी ग्राम पंचायत की मतदाता सूची में इनके नाम दो बार प्रकाशित हैं। मतदान के दिन इन दोहरे नाम वाले मतदाताओं में से बड़ी संख्या में मतदाताओं ने दोनों वार्डों में अपना मतदान कर दिया। इस तरह से सरपंच पद के लिए एक मतदाता ने दो बार मतदान कर दिया। मतदान के दौरान ही इस गंभीर और भारी अनियमितता व धांधली की जानकारी मिलने पर सरपंच प्रत्याशी धमली देवी, अनु और उनके समर्थकों ने तत्काल रिटर्निंग अधिकारी रामनिवास व तीनों पीठासीन अधिकारियों को मौखिक और लिखित रूप से अवगत करवाते हुए तत्काल मतदान प्रक्रिया को रुकवाने का आग्रह किया, लेकिन उन्होंने इसकी परवाह नहीं करते हुए मतदान प्रक्रिया सम्पादित कर समाप्त कर दी। सरपंच प्रत्याशी ने कोई आपत्ति नहीं जताई: रिटर्निंग अधिकारी ने शाम 5 बजे प्रार्थीया को प्रार्थना पत्र की प्राप्ति रसीद (रिसिव्ड) दी। सैकड़ों मतदाताओं के दोहरा मतदान करने और मतदान प्रक्रिया दूषित होने की जानकारी होने के बावजूद सरपंच प्रत्याशी लक्ष्मी ने रिटर्निंग अधिकारी के समक्ष कोई आपत्ति नहीं जताई। पराजित प्रत्याशियों का आरोप है कि इससे इस आशंका को बल मिलता है कि उक्त गंभीर और भारी अनियमितता कोई मामूली चूक नहीं होकर सरपंच प्रत्याशी लक्ष्मी और रिटर्निंग अधिकारी रामनिवास व उनकी पोलिंग पार्टी की मिलीभगत से हुई धांधली थी। इस गंभीर और भारी त्रुटि के अलावा यहां पर सभी वार्डों में ऐसे मतदाताओं द्वारा भी मतदान कर दिया गया, जिनकी मृत्यु हो चुकी है अथवा जो मतदान के दिन गांव ही नहीं बल्कि राजस्थान में ही नहीं थे। प्रत्याशियों ने मांग की है कि विलोपित सूची के सैकड़ों मतदाताओं द्वारा दोहरा मतदान करने की गंभीर और भारी अनियमितता के कारण दूषित हुई चुनाव प्रक्रिया को देखते हुए सिनली की नवनिर्वाचित सरपंच लक्ष्मी और वार्ड पंचों के निर्वाचन को रद्द और शून्य घोषित करते हुए सरपंच पद के लिए फिर से मतदान करवाया जाए। हिन्दुस्थान समाचार/सतीश / ईश्वर-hindusthansamachar.in