सात माह बाद जोधपुर में खुले धार्मिक स्थल: लोगों ने लिया इष्ट देवताओं का दर्शन लाभ
सात माह बाद जोधपुर में खुले धार्मिक स्थल: लोगों ने लिया इष्ट देवताओं का दर्शन लाभ
राजस्थान

सात माह बाद जोधपुर में खुले धार्मिक स्थल: लोगों ने लिया इष्ट देवताओं का दर्शन लाभ

news

जोधपुर, 05 नवम्बर (हि.स.)। करीब सात माह से बंद जोधपुर के सभी प्रमुख मंदिरों व धार्मिक स्थलों को गुरुवार से खोल दिया गया। इसमें आज पहले दिन अधिकांश मंदिर व धार्मिक स्थल खाली नजर आए। फिलहाल 10 साल से कम उम्र के बच्चों और 65 साल से अधिक के लोगों को प्रवेश नहीं दिया जा रहा है। मंदिरों में घंटियों पर कपड़े बांधे गए है। कोई भी भक्त घंटियां नहीं बजा सकेगा। शहर में मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा और चर्च सहित सभी छोटे-बड़े धार्मिक स्थल आज से भक्तों के दर्शनार्थ खुल गए। देवस्थान विभाग के अधीन आने वाले कुंजबिहारी मंदिर, गंगश्यामजी का मंदिर, रातानाडा गणेश सहित सभी मंदिर शुक्रवार से खुल जाएंगे। मंदिरों में सेनिटाइजेशन और सोशल डिस्टेंसिंग सहित प्रवेश और निकासी मार्ग, मास्क की अनिवार्यता और सुरक्षा के सभी उपायों व कोविड-19 गाइडलाइन की पालना करनी जरूरी है। मंदिर परिसर में साफ सफाई व सेनिटाइज कर सोशल डिस्टेंसिंग के लिए छह फीट की दूरी पर बॉक्स मार्किंग किए गए है। मसूरिया स्थित लोकदेवता बाबा रामदेव के गुरु बालीनाथ मंदिर भी आज से खुल गया। वहीं ओसियां माता मंदिर, शहर के भीतर भाग स्थित अचलनाथ महादेव मंदिर और सिद्धनाथ महादेव मंदिर में आज सुबह मंगला आरती के दौरान भक्तों को प्रवेश दिया। मंदिर प्रबंधन की ओर से दर्शनार्थियों को मास्क, सामाजिक दूरी, थर्मल स्कैनिंग, हैण्डवॉश और सेनेटाइजर की प्रावधानों की अनिवार्य रूप से पालना करवाई जा रही है। मंदिर में नो मास्क नो एन्ट्री की सख्ती से पालना करना जरूरी है। हिन्दुस्थान समाचार/सतीश/संदीप-hindusthansamachar.in