सरपंच के लिए दबेगा ईवीएम का बटन, वार्ड पंच के लिए लगेगा स्याही का ठप्पा
सरपंच के लिए दबेगा ईवीएम का बटन, वार्ड पंच के लिए लगेगा स्याही का ठप्पा
राजस्थान

सरपंच के लिए दबेगा ईवीएम का बटन, वार्ड पंच के लिए लगेगा स्याही का ठप्पा

news

जयपुर, 07 सितम्बर (हि.स.)। राजस्थान में बाकी बची 3 हजार 848 पंचायतों के पंच और सरपंच के चुनावों की तारीखों का ऐलान सोमवार को राज्य निर्वाचन आयोग ने कर दिया है। इस साल जनवरी में संपन्न हुए पंच-सरपंचों की तरह इन 3 हजार 848 ग्राम पंचायतों में भी सरपंच पद के लिए आम चुनाव ईवीएम के जरिए करवाए जाएंगे, जबकि पंच पद का निर्वाचन परंपरागत तरीके से ही मत पेटी और मत पत्र के माध्यम से करवाया जाएगा। इन 3 हजार 848 ग्राम पंचायतों में एक करोड़ 28 लाख 23 हजार 785 मतदाता हैं, जिनमें से 67 लाख 7 हजार 732 पुरुष, 61 लाख 15 हजार 989 महिला मतदाता और 74 थर्ड जेंडर के मतदाता हैं। यह चुनाव चार चरणों में होंगे। पहले चरण में 1 हजार 3 ग्राम पंचायतें और 9355 वार्डों में चुनाव होगा। दूसरे चरण में 1 हजार 28 ग्राम पंचायत और 9 हजार 662 वार्ड में चुनाव होंगे। तीसरे चरण में 943 ग्राम पंचायत और 8 हजार 661 वार्ड में चुनाव होंगे। चौथे चरण में 874 ग्राम पंचायतों के सरपंचों और 8 हजार 290 वार्ड पंचों के चुनाव करवाए जाएंगे। इस तरह से कुल 3 हजार 848 ग्राम पंचायतों में सरपंचों के चुनाव होंगे। वहीं, 35 हजार 968 वार्डों में पंच चुने जाएंगे। 16 नवंबर 2019 को सरकार की ओर से जारी की गई अधिसूचनाओं के पश्चात प्रभावित ग्राम पंचायतों की निर्वाचक नामावलियां समय पर तैयार नहीं हो पाई। ऐसे में आयोग ने राज्य सरकार से दोबारा किए गए परिसीमन से प्रभावित ग्राम पंचायतों को छोडक़र 11 हजार 341 में से 7 हजार 463 ग्राम पंचायतों में पंच और सरपंच के आम चुनाव जनवरी और मार्च 2020 में करवा लिए। वहीं 3 हजार 859 ग्राम पंचायतें राज्य सरकार की परिसीमन की अधिसूचनाओं से प्रभावित थी। इस कारण कार्यकाल समाप्त होने के पश्चात भी इनके आम चुनाव समय पर नहीं करवाए जा सके। इसके अलावा जयपुर जिले की पंचायत समिति बस्सी की ग्राम पंचायत बस्सी और जालोर जिले की पंचायत समिति सायला की ग्राम पंचायत थलवाड़ का कार्यकाल भी अगस्त में समाप्त हो गया था। इस तरह कुल 3 हजार 861 ग्राम पंचायतों में आम चुनाव लंबित हो गए थे। इन पंचायतों को किया पालिका क्षेत्र में शामिल इस बीच राज्य सरकार द्वारा नई नगर पालिकाओं के गठन से 3 हजार 861 ग्राम पंचायतों में से 13 ग्राम पंचायतों जिनमें अलवर जिले की 6 ग्राम पंचायतें लेकड़ी, कफनवाडा, लिली, मौजपुर, हसनपुर और लक्ष्मणगढ़, भरतपुर जिले की ग्राम पंचायत सीकरी, दौसा जिले की ग्राम पंचायत मंडावरी, जयपुर जिले की ग्राम पंचायत बस्सी, जोधपुर जिले की ग्राम पंचायत भोपालगढ़, बासनी खेड़ा, सवाई माधोपुर जिले की ग्राम पंचायत बामनवास पट्टी कला और बामनवास खुर्द को पूर्ण या आंशिक रूप से नगर पालिका क्षेत्र में सम्मिलित कर लेने के कारण यह पंचायतें नहीं रह गई हैं। अब वर्तमान में केवल 3 हजार 848 ग्राम पंचायतों के चुनाव होने हैं। हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/ ईश्वर-hindusthansamachar.in