शारदीय नवरात्रि शनिवार से, घर-घर में होगी घटस्थापना, दर्शनार्थियों के लिए बंद रहेगा आमेर शिला माता मंदिर
शारदीय नवरात्रि शनिवार से, घर-घर में होगी घटस्थापना, दर्शनार्थियों के लिए बंद रहेगा आमेर शिला माता मंदिर
राजस्थान

शारदीय नवरात्रि शनिवार से, घर-घर में होगी घटस्थापना, दर्शनार्थियों के लिए बंद रहेगा आमेर शिला माता मंदिर

news

जयपुर,16 अक्टूबर(हि.स.)। शारदीय नवरात्रि शनिवार से शुरू होने जा रही है। इस अवसर पर माता मंदिर और घर-घर में घटस्थापना की जाएगी। कोरोना महामारी के चलते इस बार शारदीय नवरात्रि में आमेर शिला माता मंदिर दर्शनार्थियों के लिए बंद रहेगा। मंदिर में घट स्थापना सुबह 7 बजकर 05 मिनट पर होगी। शहर के अन्य दुर्गा मंदिरों में घट स्थापना की जाएगी। खोले के हनुमानजी के घट स्थापना के साथ ही मंदिर में नवाह्नपारायण के पाठ शुरू होंगे। पं.गौरव गौड ने बताया कि घटस्थापना का सुबह 6.31 बजे से सुबह 8.47 बजे सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त रहेगा। वहीं अभिजित मुहूर्त सुबह 11.49 से दोपहर 12.35 बजे तक रहेगा। 25 अक्टूबर को विजयादशमी यानि दशहरा पर्व मनाया जाएगा। आमेर शिला माता मंदिर के पुजारी बनवारी शर्मा ने बताया कि दर्शनार्थियों के लिए मंदिर 31 अक्टूबर तक बंद रहेगा। शिला माता मंदिर में घटस्थापना सुबह 7.05 बजे होगी। 22 को छठ का मेला नहीं भरेगा। 23 को निशा पूजन रात 10 बजे होगी। 24 को शाम 4.30 बजे पूर्णाहुति होगी। 26 को सुबह 10.30 बजे नवरात्रा उत्थापना होगी। राजा पार्क पंचवटी सर्किल स्थित माता वैष्णो देवी मंदिर में नवरात्रा स्थापना 17 अक्टूबर को दोपहर 12.51 बजे होगी। इसके बाद दोपहर 1.30 बजे महाआरती होगी। इसके चलते मंदिर में सजावट की गई है। इस बार मंदिर में विशेष लाइटिंग की गई है। वैष्णो देवी सेवा समिति के अध्यक्ष सुभाष भाटिया ने बताया कि नवरात्र में मंदिर के दर्शन का समय प्रतिदिन सुबह 6.30 बजे से 11.30 बजे तक और शाम 5.30 बजे से रात 8.30 बजे तक रहेगा। श्रीखोले के हनुमान मंदिर में शारदीय नवरात्र घट स्थापना शनिवार को सुबह 11.15 बजे होगी। इसके साथ ही अखण्ड वाल्मीकि रामायण के पाठ शुरू होंगे, जो नौ दिन चलेंगे। रोजाना शाम 6 बजे से रात 10 बजे तक नवाह्न पारायण के पाठ भी किए जाएंगे। शिखर पर स्थित वैष्णोदेवी माता मंदिर में दुर्गा सप्तसती के पाठ किए जाएंगे एवं अन्नापूर्णा मंदिर में भी प्रतिदिन शाम को नवाह्न पारायण के पाठों का आयोजन किया जाएगा। दुर्गापुरा स्थित दुर्गामाता मंदिर में 20 फीट दूरी से माता के दर्शन करेंगे। महंत महेन्द्र भट्टाचार्य ने बताया कि घटस्थापना सुबह 7 बजे होगी। सुबह 6 से 12 शाम 4 से 8 दर्शन कर सकेंगे। प्रसाद माला नहीं चढ़ा सकेंगे। अपेक्स सर्किल वन क्षेत्र स्थित कालक्या माता मंदिर सुबह सात से शाम छह बजे तक खुलेगा। उधर नवरात्रि के मौके पर राजधानी में एक दिन पूर्व बाजारों में रौनक देखने को बनी। बाजारों में माता के श्रृंगार के लिए दुकानें सजी और लोगों ने जमकर कर खरीददारी की। हिन्दुस्थान समाचार/दिनेश/संदीप-hindusthansamachar.in