वेतन कटौती के विरोध में राज्य कर्मचारी ग्‍यारह नवम्‍बर को देंगे गिरफ्तारी
वेतन कटौती के विरोध में राज्य कर्मचारी ग्‍यारह नवम्‍बर को देंगे गिरफ्तारी
राजस्थान

वेतन कटौती के विरोध में राज्य कर्मचारी ग्‍यारह नवम्‍बर को देंगे गिरफ्तारी

news

जयपुर, 14 अक्टूबर(हि.स.)। वेतन कटौती के विरोध में अखिल राजस्थान राज्य कर्मचारी संयुक्त महासंघ जिला शाखा जयपुर के पदाधिकारियों एवं घटक संगठनों के पदाधिकारियों ने बुधवार को मुख्यमंत्री, मुख्य सचिव एवं अतिरिक्त मुख्य सचिव वित्त के नाम ज्ञापन जिला कलेक्टर जयपुर को सौंपा। जिलामंत्री रतन कुमार प्रजापति ने बताया कि राज्य सरकार ने कोरोना में ड्यूटी दे रहे राज्य कर्मचारियों की वेतन कटौती कर अन्याय किया है। कर्मचारियों को प्रोत्साहन देने के स्थान पर प्रतिमाह एक से दो दिवस का वेतन काट कर अलोकतांत्रिक निर्णय लिया है राज्य सरकार एक वर्ष में प्रत्येक कर्मचारी व अधिकारी से प्रतिमाह एक से दो दिवस की वेतन कटौती कर समर्पित अवकाश का नकद भुगतान रोक कर जनवरी 2020 से जुलाई 2021 तक महंगाई भत्ता को स्थगित कर तथा माह मार्च 2020 का 16 दिवस का वेतन रोक कर कोविड.19 के नाम पर प्रत्येक अधिकारी व कर्मचारी से लगभग डेढ़ से दो लाख रुपये वसूल करना चाहती है जिसे किसी भी हालत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। राज्य सरकार वेतन कटौती आदेश को तुरंत वापस ले। उन्होंने बताया कि प्रदेश के राज्य कर्मियों बोर्ड निगम स्वायत्तशाषी संस्थाओं पंचायती राज एवं सहकारी संस्थाओं के कार्मिकों के वेतन से राज्य सरकार द्वारा जबरन वसूली की जा रही है जो असंवैधानिक व अनुचित है सरकार के इस अलोकतांत्रिक निर्णय से प्रदेश के तमाम कर्मचारियों में सरकार के प्रति आक्रोश व असंतोष व्याप्त है। राज्य कर्मचारियों ने सरकार की कर्मचारी विरोधी नीतियों के विरोध में आंदोलन का निर्णय लिया है। आठ नवम्बर को राजस्थान विधानसभा के समस्त विधायकों का घेराव किया जावेगा एवं ग्यारह नवम्बर को समस्त जिला मुख्यालयों पर कर्मचारियों द्वारा गिरफ्तारी दी जाएगी। हिन्दुस्थान समाचार/संदीप/ ईश्वर-hindusthansamachar.in