विश्व विख्यात पुष्कर मेला आयोजन पर इस बार संशय
विश्व विख्यात पुष्कर मेला आयोजन पर इस बार संशय
राजस्थान

विश्व विख्यात पुष्कर मेला आयोजन पर इस बार संशय

news

अजमेर, 14 अक्टूबर(हि.स.)। अंतराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त विश्व विख्यात पुष्कर मेला आयोजन पर इस बार संशय है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण के दृष्टिगत राज्य सरकार की गाइडलाइंस के चलते पुष्कर मेला आयोजित नहीं होने के आसार हैं। जिला कलेक्टर प्रकाश राजपुरोहित ने कहा कि नई गाइड लाइन का अभी इंतजार किया जाना चाहिए। विश्व विख्यात पुष्कर मेला 22 नवम्बर से 30 नवम्बर तक होना है लेकिन अभी तक कोई प्रशासनिक हलचल दिखाई नहीं दे रही है। दूसरी तरफ पुष्कर के जनप्रतिनिधियों व्यापारियों और पुरोहितों ने राज्य सरकार के इस निर्णय को गलत बताते हुए इसकी तीखे शब्दों मे निंदा की है क्योंकि अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त पुष्कर मेले से करोड़ों लोगों की धार्मिक आस्था जुड़ी है तो लाखों लोगों की आजीविका भी इसी मेले पर आधारित है। कोरोना महामारी के कारण गत 8 माह से स्थानीय दुकानदारों ओर पुरोहितों की आजीविका संकट में है। एकमात्र उम्मीदे सभी को पुष्कर मेले से थी लेकिन राज्य सरकार के निर्णय से सभी की उम्मीदें खत्म हो गई और सभी के सामने रोजी रोटी का बड़ा संकट खड़ा हो गया। स्थानीय पुरोहितों, व्यापारियों और जनप्रतिनिधियों ने राज्य सरकार के इस निर्णय पर फिर विचार करते हुए कोरोना गाइडलाइन की पालना के साथ धार्मिक मेले का आयोजन करवाने की मांग की है। पुरोहितों का कहना है कि पवित्र सरोवर के पंचतीर्थ स्नान के लिए हजारों लोग आते हैं और आस्था की डुबकी लगाकर जगतपिता ब्रह्मा मंदिर के दर्शन करते हैं इसलिए राज्य सरकार को सोच समझकर निर्णय करके गाइडलाइन के साथ कार्तिक एकादशी से कार्तिक पूर्णिमा तक जो कि एक धार्मिक आस्था का होता है इसलिए इसे कोरोना गाइड लाइन के तहत सम्पन करवाना चाहिए। हिन्दुस्थान समाचार/संतोष/ ईश्वर-hindusthansamachar.in