रेजीडेंट डॉक्टर्स हड़ताल मामला:अपनी मांगों को लेकर दो घंटे किया कार्य का बहिष्कार
रेजीडेंट डॉक्टर्स हड़ताल मामला:अपनी मांगों को लेकर दो घंटे किया कार्य का बहिष्कार
राजस्थान

रेजीडेंट डॉक्टर्स हड़ताल मामला:अपनी मांगों को लेकर दो घंटे किया कार्य का बहिष्कार

news

जयपुर,22 सितम्बर (हि.स.)। राजधानी जयपुर में रेजीडेंट डॉक्टर्स की हड़ताल मंगलवार चौथे दिन को भी जारी रही। जिसके चलते मंगलवार को भी डॉक्टर्स ने सुबह आठ से दस बजे तक कार्य का बहिष्कार कर अपनी मांगों के समर्थन में विरोध दर्ज किया। जार्ड के अध्यक्ष डॉ. अशोक विश्नोई ने बताया कि पिछले चार दिनों से डॉक्टर कोरोना वॉरियर डॉक्टर्स को खास सुविधाएं देने की मांग को लेकर रेजीडेंट डॉक्टर्स काली पट्टी बांध कर काम करते हुए सरकार का विरोध कर रहे है। कोरोना पीड़ित डॉक्टर्स को पर्याप्त मेडिकल सुविधाएं नहीं देने के लिए यह विरोध प्रदर्शन शुरू किया जो दो दिनों तक रेजीडेंट डॉक्टर ने काली पट्टी बांधकर काम किया। इसके बाद भी उनकी मांग पर सरकार ने कोई निर्णय नहीं लिया गया तो रेजीडेंट ने दो घंटे कार्य बहिष्कार करना शुरू कर दिया है। हालांकि चिकित्सा शिक्षा सचिव से लेकर चिकित्सा मंत्री तक से रेजीडेंट के प्रतिनिधि मंडल की बैठक हुई,लेकिन बात नहीं बन सकी। सरकार उन्हें आश्वासन दे रही है और रेजीडेंट कोरोना पीड़ित डॉक्टर्स के लिए खास सुविधाओं के तुरंत निर्देश देने की मांग पर अड़े हैं। इस संबंध में रेजीडेंट ने सबसे पहले एसएमएस मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल को चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा के नाम ज्ञापन दिया। इसमें कोरोना पॉजिटिव रेजीडेंट के रहने की व्यवस्था के लिए कोटेज वार्ड देने व रेजीडेंट के लिए कुछ कोटेज वार्ड रिजर्व रखने की मांग की गई है। वहीं कोरोना पॉजिटिव रेजीडेंट डॉक्टर्स के लिए मेडिकल इंवेस्टिगेशन की सुविधा निशुल्क करने, उनके खाने-पीने की व्यवस्था करने, आईसीयू और वेंटिलेटर के पचास प्रतिशत बैड रिजर्व रखने की मांग की गई है। जार्ड के अध्यक्ष विश्नोई ने बताया कि कोरोना महामारी में लगातार काम कर रहे रेजिडेंट को आराम नहीं दिया जा रहा। इसीलिए कोरोना वॉरियर्स के रूप में काम कर रहे एनेस्थिसिया और मेडिसिन रेजीडेंट का वर्कलोड कम करने के लिए वैकल्पिक व्यवस्था की मांग भी की गई है। साथ ही जो भी स्वास्थ्यकर्मी कोरोना वार्ड में काम कर रहे हैं, उन सभी को कोविड ड्यूटी इंसेंटिव भी मिलना चाहिए। इसके साथ सरकार की ओर से आदेश जारी होने तक रेजीडेंट की हड़ताल भी जारी रहेगी। हिन्दुस्थान समाचार/दिनेश/संदीप-hindusthansamachar.in