राजस्थान उच्च न्यायालय ने ड्राइवर के बर्खास्तगी पर लगाई रोक
राजस्थान उच्च न्यायालय ने ड्राइवर के बर्खास्तगी पर लगाई रोक
राजस्थान

राजस्थान उच्च न्यायालय ने ड्राइवर के बर्खास्तगी पर लगाई रोक

news

झुंझुनू,15 सितम्बर(हि.स.)। राजस्थान उच्च न्यायालय ने नगर परिषद झुंझुनूसे हटाए गए ड्राइवर कम फायरमैन के आदेश पर रोक लगाते हुए याचिका कर्ता को पुनः सेवा में लेने का आदेश पारित किया है तथा नगर परिषद को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया गया है। याचिकाकर्ता राजवीरसिंह कटेवा बख्तावरपुरा चिड़ावा का निवासी है तथा फौज से रिटायरमेंट के बाद से ही सन 2003 से नगर परिषद झुंझुनू में ड्राइवर कम फायरमैन के पद पर कार्यरत रहा है। याचिका कर्ता 10 वर्ष पूर्ण हो जाने के पश्चात नियमितिकरण व न्यून्तम वेतनमान के लिए राजस्थान उच्च न्यायालय में अधिवक्ता सूर्यप्रकाश के माध्यम से याचिका दायर की थी। जिसके अंतर्गत राजस्थान उच्च न्यायालय ने सुप्रीम कोर्ट के निर्णय पंजाब बनाम जगजीतसिंह के संदर्भ में प्रतिवेदन निस्तारित करने के आदेश 2018 में पारित किए थे। परंतु जब लंबे समय तक भी नगर परिषद के द्वारा उक्त प्रतिवेदन पर कोई भी कार्यवाही नहीं हुई, तो याचिका कर्ता ने उक्त आदेश के खिलाफ अवमानना याचिका पेश कर दी। उक्त समस्त कार्यवाही के विरोध स्वरूप नगर परिषद झुंझुनू ने न तो प्रतिवेदन का निस्तारण किया तथा न ही अवमानना याचिका की पालना की। विपरित इसके नगर परिषद झुंझुनू ने दो सितंबर 2020 को राजवीरसिंह कटेवा को सेवा से ही बर्खास्त कर दिया। तदोपरांत याचिकाकर्ता को उच्च न्यायालय की शरण लेनी पड़ी तथा उक्त बर्खास्तगी आदेश के खिलाफ अधिवक्ता सूर्यप्रकाश के जरिए याचिका पेश करी तथा न्यायाधीश संजीवप्रकाश शर्मा ने याचिका की सुनवाई करते हुए बर्खास्तगी आदेश पर रोक लगा दी तथा साथ ही याचिका कर्ता को पुंनः सेवा में लिए जाने के लिए आदेशित करते हुए नगर परिषद को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया गया है। हिन्दुस्थान समाचार / रमेश सर्राफ / ईश्वर-hindusthansamachar.in