माकन व डोटासरा के सामने फूटा कांग्रेसजनों का गुस्सा, कहा-नहीं होते उनके काम
माकन व डोटासरा के सामने फूटा कांग्रेसजनों का गुस्सा, कहा-नहीं होते उनके काम
राजस्थान

माकन व डोटासरा के सामने फूटा कांग्रेसजनों का गुस्सा, कहा-नहीं होते उनके काम

news

जयपुर, 10 सितम्बर (हि.स.)। अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव एवं राजस्थान प्रभारी अजय माकन तथा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा ने गुरुवार को प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में जयपुर संभाग के जयपुर, जयपुर देहात, अलवर, सीकर, झुंझुनूं एवं दौसा जिलों के प्रमुख कांग्रेसजनों के साथ संवाद किया। संवाद में अधिकांश कांग्रेसजनों में सरकार होने के बावजूद खुद के काम नहीं होने का फीडबैक दिया। संवाद कार्यक्रम में हालांकि, बड़े नेताओं ने हिस्सा नहीं लिया, लेकिन संभाग के लगभग सभी जिलों से आए 125 से अधिक कांग्रेसजनों ने माकन को अपनी पीड़ा बताई। कांग्रेसजनों ने कहा कि कांग्रेस की सरकार होने के बावजूद ब्यूरोक्रेसी उन पर हावी है और उनके क्षेत्र की मांगों तथा समस्याओं पर कोई कार्रवाई नहीं होती। फीडबैक कार्यक्रम के बाद माकन ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि सभी लोगों ने संगठन की मजबूती के लिए सकारात्मक सुझाव दिए हैं। अब 2 अक्टूबर को महात्मा गांधी की जयंती के उपलक्ष में कांग्रेस पार्टी के जन घोषणा पत्र में जनता से किए गए वादों की क्रियान्विति और सरकार की अन्य उपलब्धियों को विभागवार संकलित कर प्रदेश की जनता को समर्पित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि राजस्थान देश के अन्य राज्यों की तुलना में कोरोना महामारी को नियंत्रित करने में कामयाब रहा है और यहां प्रति लाख व्यक्ति संक्रमण दर व मृत्यु दर देश में सबसे कम है। राज्य में सरकार सभी कांग्रेस कार्यकर्ताओं को विश्वास में लेकर जनता की आंकाक्षाओं को पूरा कर रही है। उन्होंने कहा कि जिलों के सभी प्रभारी मंत्री जल्द ही संबंधित जिले का दौरा कर जिला व ब्लॉक स्तर के सभी कांग्रेस कार्यकर्ताओं से संवाद स्थापित करेंगे तथा जनता के कार्यों व उनकी मांगों का निस्तारण हाथों-हाथ करेंगे। जिलाध्यक्ष व कांग्रेस के सभी वरिष्ठ नेता ब्लॉक कांग्रेस कमेटी की बैठकों में भाग लेंगे और जनता की समस्याओं के निदान के लिए काम करेंगे। प्रदेशाध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा ने कहा कि जयपुर संभाग की इस बैठक में 6 जिलों के प्रमुख कांग्रेस कार्यकर्ताओं से संवाद स्थापित कर संगठन की बेहतरी के लिए सकारात्मक सुझाव प्राप्त हुए हैं। संवाद कार्यक्रम में विद्युत विभाग में वीसीआर समस्या के निस्तारण के लिए निर्धारित 70 प्रतिशत राशि जमा कराने का प्रावधान है, उसके बाद ही समझौता समिति के समक्ष प्रभावित की सुनवाई होती है, इस मापदण्ड को शिथिल बनाने व फिक्स चार्ज की राशि के रिव्यू के सुझाव मिले हैं उन्हें सरकार के समक्ष रखकर किसानों को राहत प्रदान करने का प्रयास किया जाएगा। साथ ही, जल्द ही शिक्षा विभाग की भर्तियों को पूरा किया जाएगा। उन्होंने कहा कि संगठन आमजन तथा सरकार के बीच सेतु व समन्वय स्थापित करने का कार्य करेगा। हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/ ईश्वर-hindusthansamachar.in