महाविद्यालयों में शेष परीक्षाओं का आयोजन होने तक स्टॉफ के अवकाश पर रोक
महाविद्यालयों में शेष परीक्षाओं का आयोजन होने तक स्टॉफ के अवकाश पर रोक
राजस्थान

महाविद्यालयों में शेष परीक्षाओं का आयोजन होने तक स्टॉफ के अवकाश पर रोक

news

जयपुर, 12 सितम्बर (हि. स.)। प्रदेश के कॉलेजों में सत्र 2019-20 की अंतिम वर्ष (स्नात्तक व स्नात्तकोत्तर) की शेष रही परीक्षाओं के लिए कॉलेजों के प्राचार्यों, कार्यवाहक प्राचार्यों समेत अन्य स्टॉफ के अवकाश लेने पर रोक लगा दी गई है। कॉलेज शिक्षा निदेशालय ने शेष रही परीक्षाओं के सफल संचालन के लिए विस्तृत गाइडलाइन जारी की है। इसमें कोरोना महामारी के साथ अन्य नियमों की कड़ाई से पालन करने की हिदायतें दी गई है। शिक्षा निदेशक संदेश नायक की ओर से सभी सरकारी व निजी कॉलेजों के प्राचार्यों के नाम जारी की गई गाइडलाइन में परीक्षाओं के सफल आयोजन के लिए महाविद्यालय अनुशासन समिति को सक्रिय करने के निर्देश दिए गए हैं। प्रदेश में 18 अक्टूबर से यूजी और पीजी के बचे हुए फाइनल पेपर के साथ शेष पेपर्स की परीक्षाओं की शुरुआत होने जा रही है। इन परीक्षाओं के लिए कॉलेज स्टॉफ की कमी और वीक्षकों की आवश्यकता के मद्देनजर जिला शिक्षा अधिकारी से संपर्क कर स्कूल शिक्षकों का सहयोग लेने के साथ गत पांच वर्षों में सेवानिवृत व्याख्याता, प्रयोगशाला सहायकों, मंत्रालयिक और लेखा शाखा कार्मिकों को परीक्षा कार्य में लगाने के आदेश दिए गए हैं। महाविद्यालय कार्मिकों के नजदीकी रिश्तेदार यदि परीक्षा दे रहे हो उन्हें परीक्षा ड्यूटी में नहीं लगाया जाएगा। परीक्षाओं के दौरान वीक्षकों की मौजूदगी को लेकर इस बार सख्ती की जा रही है। निदेशालय ने माना है कि सुपरवाइजर कमरों में प्रश्रपत्र आवंटन के बाद और फ्लाइंग स्क्वॉयड के सदस्य स्टॉफ रूम में आकर एकसाथ बैठ जाते हैं। इससे अनुशासनहीनता की समस्या पैदा होती है। परीक्षा में नकल रोकने के लिए इस बार केन्द्र में प्रवेश से पहले ही उनकी विस्तार से जांच की जाएगी। निदेशालय ने यह भी माना है कि कुछ वीक्षक ड्यूटी के समय परीक्षा कक्ष में मैगजीन या अखबार पढ़ते रहते हैं, तो कुछ द्वार पर खड़े हो जाते हैं। सतर्कता नहीं बरतते और समूह बनाकर बैठ जाते हैं। यह कार्य के प्रति लापरवाही की श्रेणी में आता है। निदेशालय ने कहा है कि यदि किसी वीक्षक के प्रति फ्लाइंग स्क्वॉयड ने ऐसी शिकायत की तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। परीक्षा के दौरान वीक्षकों के मोबाइल उपयोग पर भी पूर्णतया प्रतिबंध लगाया गया है। हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/संदीप-hindusthansamachar.in