बिजली चोरी रोकने में विभाग बरतेगा सख्ती
बिजली चोरी रोकने में विभाग बरतेगा सख्ती
राजस्थान

बिजली चोरी रोकने में विभाग बरतेगा सख्ती

news

झुंझुनू, 18 अक्टूबर(हि.स.)। अजमेर विद्युत वितरण निगम (डिस्कॉम) के सभी प्रयासों के उपरांत भी झुंझुनू जिले में बिजली की चोरी नहीं रुक रही है। यहां बिजली की हानि औसत से अधिक बनी हुई है। जिले में पिछले 6 महीनों में 9 करोड रुपए की बिजली चोरी पकड़ी जा चुकी है। लेकिन छीजत का औसत कम नहीं हो पा रहा है। यह अभी भी 20 प्रतिशत तक है। डिस्कॉम ने अब बिजली कि ज्यादा चोरी व छीजत वाले इलाकों में मीटर की जांच के लिए सघन अभियान चलाने का फैसला किया है। जिले में प्रतिदिन 12 लाख यूनिट के करीब बिजली चोरी की जा रही है। जिसका डिस्कॉम को एक पैसा भी नहीं मिलता है। जबकि डिस्काम को इस के लिए बड़ी रकम चुकानी पड़ती है। इस कारण डिस्कॉम की नजर झुंझुनू जिले पर है। जिले में बिजली चोरी करने वालों के खिलाफ वीसीआर भरी जा रही है। लोगों के खिलाफ मामले दर्ज कराए जा रहे हैं। जिले में बिजली चोरी के मामलों में खेतड़ी, पिलानी, सूरजगढ़, बुहाना क्षेत्र में बिजली की छीजत और चोरी ज्यादा होती है। खेतड़ी कस्बे में बिजली का लोस 36 प्रतिशत है तो पिलानी क्षेत्र में 28 प्रतिशत बिजली लोस आ रहा है। सूरजगढ़ क्षेत्र में 23 प्रतिशत बिजली चोरी हो रही है। डिस्कॉम की ओर से बिजली छीजत वाले इलाकों में लगातार अधिकारियों की ओर से जांच की गई है। इस साल अप्रैल से लेकर सितंबर तक चार 4 हजार 514 बिजली चोरी के मामले पकड़ कर 8 करोड़ 78 लाख रुपये की वीसीआर भरी गयी थी। जिनमें 4 करोड़ रुपये जुर्माने के जमा भी हो चुके हैं। जिले में करीब सवा सौ लोगों के खिलाफ बिजली चोरी निरोधक थाने में मामले दर्ज करवाए गए हैं। पिलानी व सूरजगढ़ क्षेत्र के गांव में तो खेतों में गड्ढा खोदकर दबाएं गए बिजली के ट्रांसफार्मर तक जब्त किए गए जो हरियाणा से लाए गए थे। अजमेर विद्युत वितरण निगम के प्रबंध निदेशक वी एस भाटी ने हाल ही में डिस्कॉम के सभी अधिकारियों को बिजली चोरों से सख्ती से पेश आने को कहा था। बेबीनार के माध्यम से भाटी ने छीजत 13 प्रतिशत से नीचे लाने को कहा है। जिले का बिजली की छीजत 20 प्रतिशत के करीब है। यानी जिले में रोजाना लाखों यूनिट बिजली का दुरुपयोग हो रहा है। ऐसे स्थानों को चिन्हित कर मीटर की जांच अभियान चलाया जाएगा। हिन्दुस्थान समाचार / रमेश/संदीप-hindusthansamachar.in