पिता की तरह गहलोत विरोधी रवैये पर कायम है विधायक ओला
पिता की तरह गहलोत विरोधी रवैये पर कायम है विधायक ओला
राजस्थान

पिता की तरह गहलोत विरोधी रवैये पर कायम है विधायक ओला

news

झुंझुनू : राजस्थान के पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के साथ कांग्रेस के 19 विधायकों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के खिलाफ विद्रोह का झंडा बुलंद कर रखा है। इनमें झुंझुनू के विधायक बृजेंद्र ओला भी शामिल है। 2008 में बृजेंद्र ओला के पिता शीशराम ओला मुख्यमंत्री की लड़ाई में गहलोत के खिलाफ चुनाव लड़ कर उनको चुनौती दी थी। हालांकि 2008 में गहलोत शीशराम ओला को मात देकर मुख्यमंत्री बनने में सफल रहे थे। मगर ओला को संतुष्ट करने के लिए कांग्रेस आलाकमान ने उस वक्त उन्हें पहले तो लोकसभा में संसदीय दल का उपनेता बनाया। फिर केंद्र सरकार में उन्हे दूसरी बार कैबिनेट मंत्री बनाया था। अपने पिता स्वर्गीय शीशराम ओला द्धारा शुरू किये गये गहलोत विरोध के नक्शे कदम पर झुंझुनू विधायक बृजेंद्र ओला भी निरंतर चल रहे हैं। इसी के चलते विधायक ओला प्रारंभ से ही सचिन पायलट से जुड़े हुए हैं। 2008, 2013 व 2018 में लगातार तीसरी बार कांग्रेस टिकट पर झुंझुनू से विधायक बने बृजेंद्र ओला 2010 से 2013 तक अशोक गहलोत सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं। इससे पूर्व वह दो बार झुंझुनू जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष व झुंझुनू के जिला प्रमुख भी रह चुके हैं। उनकी पत्नी डॉ राजबाला ओला भी झुंझुनू की जिला प्रमुख रह चुकी है। उनके पिता स्वर्गीय शीशराम ओला राजस्थान कांग्रेस के दिग्गज नेता थे। जो 8 बार विधायक व पांच बार सांसद व लगातार 20 साल तक जिला प्रमुख रहे थे। शीशराम ओला राजस्थान सरकार में दस साल तक मंत्री रहे थे। वो केंद्र की देवगौड़ा, इंद्रकुमार गुजराल व मनमोहन सिंह की दोनों सरकारों में मंत्री रहे थे। अपने पिता के नक्शे कदम पर चल कर राजनीतिक कर रहे बृजेंद्र ओला पूरी मजबूती से सचिन पायलट के साथ है तथा उनके साथ ही राजस्थान से बाहर रुके हुए हैं। आज उनके पिता स्वर्गीय शीशराम ओला की 94 वी जयंती है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट सहित बहुत से लागों ने सोशल मीडिया के माध्यम से स्वर्गीय शीशराम ओला को श्रद्धांजलि अर्पित की है। झुंझुनू जिले में मजबूत पकड़ रखने वाले बृजेंद्र ओला के पायलट गुट के साथ जाने से उनकी समर्थक नगर परिषद सभापति, पार्षद, पूर्व जिला प्रमुख, पूर्व प्रधान, पूर्व सरपंच व पार्टी के पूर्व पदाधिकारी मजबूती से उनके साथ डटे हुए हैं। उनके किसी भी समर्थक ने उनके सचिन पायलट से जुड़ने का विरोध नहीं किया है। हालांकि झुंझुनू में कुछ लोग ओला द्वारा गहलोत की बगावत करने की निंदा कर रहे हैं। मगर उनका जनता में जनाधार नहीं है।-newsindialive.in