निगम चुनाव : बड़े नेताओं के हाथ कमान, प्रत्याशी तय नहीं, क्षेत्रीय मुद्दे हो रहे गौण
निगम चुनाव : बड़े नेताओं के हाथ कमान, प्रत्याशी तय नहीं, क्षेत्रीय मुद्दे हो रहे गौण
राजस्थान

निगम चुनाव : बड़े नेताओं के हाथ कमान, प्रत्याशी तय नहीं, क्षेत्रीय मुद्दे हो रहे गौण

news

जयपुर, 14 अक्टूबर (हि. स.)। प्रदेश के छह नगर निगम में चुनाव का बिगुल बज चुका है। कार्यकर्ताओं ने टिकट के लिए दावेदारी भी शुरू कर दी है, लेकिन इस बार भी स्थानीय मुद्दे गौण हैं। सडक़, सीवर, रोड लाइट जैसे बुनियादी मुद्दों को लेकर नेताजी चुप हैं, लेकिन उनके मुंह से निकल रही है बढ़ते अपराध और कोरोना संक्रमण की बातें। भाजपा और कांग्रेस दोनों ही पार्टियां स्थानीय मुद्दों को छोडक़र ऐसे मुद्दों को हवा देने में जुटे हैं, जिनका निगम चुनाव से कोई लेना-देना नहीं है। जिन तीन शहरों में चुनाव होने हैं, वे अभी कोरोना के हॉट स्पॉट बने हुए हैं। इन शहरों में भाजपा कोरोना और प्रदेश में बढ़ते अपराधों को लेकर जनता के बीच जाने की तैयारी में हैं, जबकि बिगड़ी सफाई व्यवस्था, बंद रोड लाइट्स, टूटी सडक़ें मुद्दों में शामिल नहीं हैं। इसी तरह कांग्रेस भी ऐसे मुद्दों से दूर है। कांग्रेस केंद्र सरकार की गलत नीतियों और गिरती अर्थव्यवस्था के साथ गुटबाजी को लेकर भाजपा पर धावा बोलेगी। कांग्रेस कोरोनाकाल में किए गए प्रबंध को लेकर भी जनता के बीच जाएगी। तीनों शहरों में जयपुर सबसे बड़ा क्षेत्र हैं। यहां पहली बार दो नगर निगम बनाए गए हैं। आज भी शहर का एक बड़ा हिस्सा सफाई से महरूम है। हर महीने बिजली और पानी के बिलों में जुडक़र आने वाले टैक्स आम आदमी चुकाता है, लेकिन सुविधा के नाम पर उसे कुछ नहीं मिल रहा है। जयपुर नगर निगम में हर साल करोड़ों रुपए सफाई के नाम पर खर्च होता है, लेकिन यह सफाई मुख्य सडक़ों से आगे नहीं बढ़ पा रही है। आज भी शहर की गलियों में कचरों के अंबार लगे हैं। प्रदेश के 6 नव गठित नगर निगमों के चुनावी दंगल में बड़े नेताओं की सक्रियता ने पार्टी की प्रतिष्ठा को दांव पर लगा दिया है। बड़े नेताओं के हाथों में शहरी सरकार के चुनावों की कमान ने धरातल के मुद्दों को गौण कर दिया है। राजधानी जयपुर की जनता शहर के हेरिटेज को संजोए रखने, अतिक्रमण पर लगाम लगाने, आवारा पशुओं से शहर को मुक्ति दिलाने जैसी छोटी-छोटी समस्याओं से निजात पाने की उम्मीद लगाए बैठी है। दोनों ही पार्टियों ने नहीं की प्रत्याशियों की घोषणा नगर निगम चुनाव के लिए बुधवार से प्रत्याशियों ने आवेदन करना भी शुरू कर दिया है, लेकिन अब तक दोनों ही पार्टियों ने अपने प्रत्याशियों की घोषणा नहीं की है। कांग्रेस पार्टी ने टिकट चाहने वालों से ऑनलाइन आवेदन मांगे हैं। इसके लिए प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने एक लिंक भी जारी किया है। ऑनलाइन आवेदन के लिए 23 पॉइंट में प्रत्याशी से उसकी जानकारी मांगी गई है। इन 23 पॉइंट में उनकी पर्सनल जानकारी के साथ ही पहले चुनाव लडऩे, उसके नतीजे और कांग्रेस पार्टी में कब शामिल होने के साथ ही यह भी पूछा गया है कि आपको टिकट क्यों दिया जाए। भारतीय जनता पार्टी ने भी अब तक अपने प्रत्याशियों के नाम की घोषणा करने का सिलसिला तक शुरू नहीं किया है। जयपुर नगर निगम हेरिटेज के 100 और ग्रेटर नगर निगम के 150 वार्डों के लिए करीब 3000 आवेदन पत्र आने के बावजूद उनमें से किसी भी वार्ड का प्रत्याशी घोषित नहीं किया गया है। हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/संंदीप-hindusthansamachar.in