डीजीपी पद से विदाई के बाद डॉक्टर भूपेंद्र सिंह यादव बने आरपीएससी चेयरमैन,  लाठर को डीजीपी का अतिरिक्‍त कार्यभार
डीजीपी पद से विदाई के बाद डॉक्टर भूपेंद्र सिंह यादव बने आरपीएससी चेयरमैन, लाठर को डीजीपी का अतिरिक्‍त कार्यभार
राजस्थान

डीजीपी पद से विदाई के बाद डॉक्टर भूपेंद्र सिंह यादव बने आरपीएससी चेयरमैन, लाठर को डीजीपी का अतिरिक्‍त कार्यभार

news

जयपुर, 14 अक्टूबर(हि.स.)। डॉ. भूपेंद्र सिंह यादव को बुधवार को राजस्थान के पुलिस महानिदेशक पद से विदाई दे दी गई। पुलिस महानिदेशक पद छोडने के तत्काल बाद यादव को राजस्थान लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष के रूप में नई जिम्मेदारी दी गई है। मौजूदा आरपीएससी चेयरमैन दीपक उप्रेती का कार्यकाल बुधवार को ही खत्म हो रहा है। डॉक्टर यादव पहले ही 20 नवम्बर से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति के लिए आवेदन दे चुके थे। कार्मिक विभाग ने बुधवार को डॉक्टर यादव का स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति आवेदन स्वीकार करते हुए पुलिस महकमे में सबसे वरिष्ठ होने के नाते डीजीपी का अतिरिक्त कार्यभार महानिदेशक पुलिस अपराध शाखा मोहनलाल लाठर को सौंपा है। जानकारी के अनुसार डॉक्टर भूपेंद्र सिंह को गहलोत सरकार ने एक जुलाई 2019 में दो साल के लिए डीजीपी पद की जिम्मेदारी सौंपी थी। इनका कार्यकाल 30 जून 2021 को पूरा होना था, लेकिन उन्होंने 20 नवम्बर 2020 से ही वीआरएस के लिए आवेदन कर दिया था। ऐसे में वह छह महीने पहले ही डीजीपी पद से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेने वाले थे। कार्मिक विभाग ने बुधवार को डॉक्टर यादव का स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति आवेदन स्वीकार करते हुए महानिदेशक पुलिस अपराध शाखा मोहनलाल लाठर को डीजीपी का अतिरिक्त कार्यभार अब सौंपा गया है। लाठर अपने पद के कार्य के साथ-साथ महानिदेशक पुलिस राजस्थान के पद का अतिरिक्त कार्यभार भी संभालेंगे। इधर, भूपेंद्र सिंह यादव के डीजीपी के पद से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति के बाद तत्काल बाद उन्हें आपीएससी का चेयरमैन बनाया गया है। राज्यपाल कलराज मिश्र ने फाइल को मंजूरी दे दी है। ऐसे में उनका कार्यकाल अब ज्वॉइनिंग से छह साल या 62 साल की उम्र तक रहेगा। आयोग के वर्तमान चेयरमैन दीपक उप्रेती भी बुधवार को ही सेवानिवृत्त हो रहे हैं. विदाई समारोह में भावुक हुए डीजीपी भूपेंद्र सिंह इससे पूर्व पुलिस मुख्यालय में डॉक्टर भूपेंद्र सिंह को कोरोना गाईडलाइन के चलते सादे समारोह में पुलिस अधिकारियों की ओर से विदाई दी गई। समारोह में भावुक डॉक्टर सिंह ने कहा कि डीजीपी रहते अपना बेस्ट देने का किया पूरा प्रयास किया है। फिर भी अगर किसी की अपेक्षा पूरी नहीं कर पाया हूं तो स्नेहपूर्वक क्षमा चाहता हूं। बाद में पत्रकारों से बातचीत में डॉक्टर सिंह ने 34 साल के अपने सेवाकाल के दौरान के साथियों, यहां तक किकासटेबल, कुक और सफाई कर्मचारियों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि पुलिस का बहुत बड़ा परिवार है, बीते सालों में हमने काम किया है, सबसे बहुत कुछ सीखा है, उनका बहुत-बहुत आभार और धन्यवाद। सभी को बहुत-बहुत शुभकामनाएं देना चाहता हूं। उन्होंने कहा कि पुलिस का बहुत चुनौती भरा काम बहुत बड़ा काम है। हम भी साधारण नागरिक जैसे होते हैं, हमारी कुछ कमजोरी भी है, लेकिन काम करने की जो हमारी शुभेच्छा है, अनुशासन और लगन है। हमारी टीम भावना है वह हमें अलग बनाती है और पुलिस के सभी कर्मचारी और अधिकारी अपने टीम वर्क और अनुशासन के साथ राज्य सरकार और राजस्थान की जनता की सेवा पूर्व में भी करते रहे है और मेरा विश्वास है कि वे आगे भी करते रहेंगे। आरपीएससी चेयरमैन के रुप में चुनौती और भर्तियों के संबंध में सवाल पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि जब पदभार ग्रहण कर लूंगा उसके बाद मैं इस बारे में बात करूंगा। हिन्दुस्थान समाचार/संदीप/ ईश्वर-hindusthansamachar.in