जयपुर : 10 पालिकाओं में से 9 कांग्रेस के हाथ में, 1 पर निर्दलीय जीता
जयपुर : 10 पालिकाओं में से 9 कांग्रेस के हाथ में, 1 पर निर्दलीय जीता
राजस्थान

जयपुर : 10 पालिकाओं में से 9 कांग्रेस के हाथ में, 1 पर निर्दलीय जीता

news

जयपुर, 20 दिसम्बर (हि.स.)। जयपुर जिले की 10 नगर पालिकाओं में भाजपा को हार का सामना करना पड़ा है। यहां एक भी नगर पालिका में भाजपा अपना बोर्ड नहीं बना सकी है। नौ नगर पालिकाओं में कांग्रेस के चेयरमैन बने हैं, जबकि एक नगर पालिका में कांग्रेस के बागी को जीत हासिल हुई। जयपुर जिले के किसी भी निकाय में भाजपा का खाता नहीं खुल पाया है। पिछली बार हुए चुनाव में जयपुर की 10 में से 9 नगर पालिका में भाजपा ने अपना बोर्ड बनाया था। सिर्फ चाकसू नगर पालिका ऐसी थी, जहां भाजपा नहीं जीत सकी थी। जयपुर जिले में चौमूं, रेनवाल, जोबनेर, फुलेरा, बगरू, चाकसू व सांभर लेक पालिकाओं में 220 निर्वाचित पार्षदों ने चेयरमेन पद के लिए नामांकन दाखिल करने वाले 17 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला किया। वहीं शाहपुरा, कोटपूतली व विराटनगर नगरपालिका मंडल के लिए 100 पार्षदों ने मतदान कर अपने बोर्ड का चेयरमैन चुना। जयपुर जिले के शाहपुरा में 10 साल बाद कांग्रेस ने नगर पालिका बोर्ड पर कब्जा जमाया। यहां कांग्रेस के पार्षद बंशीधर सैनी बोर्ड चेयरमैन बने हैं। उन्होंने 35 में से 20 मत हासिल कर चेयरमैन के चुनाव में जीत दर्ज की। बंशीधर का मुकाबला निर्दलीय पार्षद अर्जुन निठारवाल से था। अर्जुन ने 15 वोट हासिल किए। विराट नगर में कांग्रेस की सुमिता सैनी चेयरमैन बनीं। उन्होंने चेयरमैन के चुनाव में 20 मत हासिल किए। भाजपा प्रत्याशी को पांच वोट मिले। यहां निर्दलीयों ने कांग्रेस प्रत्याशी सुमिता को समर्थन दिया। चौमूं नगर पालिका में भी कांग्रेस ने कब्जा जमाया। यहां चौमूं विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस के पूर्व विधायक रहे भगवान सहाय सैनी के बेटे विष्णु सैनी नगर पालिका के चेयरमैन निर्वाचित हुए। चौमूं नगर पालिका में पूर्व बहुमत के साथ कांग्रेस का बोर्ड बना। यहां भाजपा के विधायक रामलाल शर्मा की प्रतिष्ठा दांव पर लगी थी। कांग्रेस ने 31 वार्डों में और भाजपा ने 12 वार्डों में जीत हासिल की थी। इसके अलावा एक सीट पर निर्दलीय महेंद्र कुमावत जीते थे। वे चेयरमैन पद के प्रत्याशी थे। उन्हें एक मत मिला। यहां 45 पार्षदों में से 44 ने वोट डाले। यहां आरएलपी के निर्वाचित पार्षद पृथ्वीराज योगी ने मतदान नहीं किया। इनमें विष्णु सैनी को 31 वोट हासिल हुए। जबकि भाजपा प्रत्याशी सुनील अग्रवाल को 12 वोट मिले। कोटपूतली नगर पालिका में चेयरमैन पद पर कांग्रेस प्रत्याशी पुष्पा सैनी निर्वाचित हुई। वे एडवोकेट दुर्गा प्रसाद सैनी की पुत्रवधु हैं। पुष्पा सैनी को 18 वोट मिले। यहां मतदान के दौरान आखिरी वोट 40वें को लेकर हंगामा हुआ। बताया जा रहा है कि नव निर्वाचित पार्षद कपिल को आईडी कार्ड नहीं होने पर वोट नहीं डालने दिया गया। हंगामा बढऩे पर पुलिस मौके पर पहुंची। यहां भाजपा नेताओं ने मतदान में धांधली के आरोप लगाए। चाकसू नगर पालिका में इस बार फिर से कांग्रेस का बोर्ड बना। मतदान में 19 वोट हासिल कर कांग्रेस के कमलेश बैरवा बोर्ड के चेयरमैन बने हैं। उनके प्रतिद्वंदी भाजपा के विनोद राजोरिया को 16 वोट मिले। फुलेरा पालिका में पूर्ण बहुमत से कांग्रेस का बोर्ड बना। यहां भाजपा ने अपना प्रत्याशी नहीं उतारा था। कांग्रेस पार्षद संगीता अग्रवाल चेयरमैन होंगी। संगीता को 14 वोट मिले। यहां उनका मुकाबला एक निर्दलीय पार्षद पूजा भाटी से था। जिसे 11 वोट मिले। 25 वार्डों में से कांग्रेस के पास 14, भाजपा के पास 9 तथा 2 निर्दलीय पार्षद है। सांभर नगर पालिका में कांग्रेस के बालकिशन बोर्ड चेयरमैन बने। बालकिशन को 14 मत मिले। भाजपा के अनिल गट्टानी को 11 वोट मिले। किशनगढ़ रेनवाल पालिका में कांग्रेस के पार्षद अमित कुमार जैन चेयरमैन बने हैं। अमित को 24 मत मिले। जबकि भाजपा प्रत्याशी नितिन शर्मा 11 वोट हासिल कर दूसरे स्थान पर रहे। बगरु पालिका में बड़ा उलटफेर हुआ। यहां कांग्रेस से टिकट नहीं मिलने पर बागी होकर वार्ड सदस्य का चुनाव लडऩे वाले मालूराम मीणा चेयरमैन बने। वे पहले भी दो बार पालिका चेयरमैन रह चुके हैं। यहां भाजपा-कांग्रेस सहित दो निर्दलीयों के मैदान में होने से रोचक मुकाबला था। दोनों दलों को पहले से क्रॉस वोटिंग का डर था। बगरु पालिका में कांग्रेस 16 सीट जीतकर दो खेमों में बंटी हुई थी, लेकिन बहुमत के आंकड़े से 7 सीट दूर थी। ऐसे में निर्दलीयों के समर्थन से यहां बोर्ड बना। मालूराम मीणा को 14 और भाजपा के मुकेश कुमार शर्मा को 11 वोट मिले। यहां कांग्रेस के संदीप पाटनी 10 वोट लेकर तीसरे स्थान पर रहे। जोबनेर पालिका में कांग्रेस की महिला पार्षद मंजू देवी नगरपालिका चेयरमैन बनीं। कांग्रेस की मंजू देवी को 15 वोट मिले। वहीं भाजपा के प्रत्याशी धर्मवीर सिंह को सिर्फ 5 वोट मिले। हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/ ईश्वर-hindusthansamachar.in