घना में पानी की उपलब्धता सुनिश्चित करें: मुख्यमंत्री
घना में पानी की उपलब्धता सुनिश्चित करें: मुख्यमंत्री
राजस्थान

घना में पानी की उपलब्धता सुनिश्चित करें: मुख्यमंत्री

news

जयपुर, 10 सितम्बर (हि.स.)। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भरतपुर के केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान में पानी की उपलब्धता की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि घना पक्षी उद्यान जैव विविधता की दृष्टि से दुनिया का महत्वपूर्ण संरक्षित क्षेत्र है। पूरी दुनिया से दुर्लभ प्रजातियों के पक्षी यहां विचरण के लिए आते हैं। ऐसे में इस पार्क के महत्व को बनाए रखने तथा यहां प्रचुर मात्रा में पानी की उपलब्धता के लिए वन, जल संसाधन एवं जनस्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग सभी समुचित विकल्पों पर विचार कर प्रभावी कार्ययोजना बनाएं। गहलोत गुरुवार को मुख्यमंत्री निवास से वीडियो कांफ्रेंस के जरिए घना पक्षी अभयारण्य में पानी पहुंचाने को लेकर समीक्षा कर दिशा-निर्देश दे रहे थे। उन्होंने कहा कि यह यूनेस्को वल्र्ड हैरिटेज साइट होने के साथ-साथ रामसर साइट भी है। पर्यटन के साथ-साथ पक्षियों पर रिसर्च के लिए भी इस उद्यान का अपना महत्व है। इस पार्क के संरक्षण एवं संवर्द्धन को लेकर चिंता व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि समय रहते पानी उपलब्ध कराने के लिए गंभीर प्रयास किया जाना बेहद जरूरी है। इसके सभी विकल्प तलाशे जाएं। मुख्यमंत्री ने बैठक के दौरान पांचना लिफ्ट इरीगेशन प्रोजेक्ट की प्रगति की भी समीक्षा की। उन्होंने जल संसाधन विभाग के सचिव नवीन महाजन को निर्देश दिए कि इस परियोजना का काम जल्द पूरा किया जाए, ताकि आगामी रबी सीजन में किसानों को इसका लाभ मिल सके। प्रमुख शासन सचिव वन एवं पर्यावरण श्रेया गुहा ने बताया कि इस उद्यान के लिए प्रतिवर्ष 550 एमसीएफटी पानी की आवश्यकता रहती है। उद्यान में पक्षियों तथा पारिस्थितिकी सन्तुलन बनाए रखने के लिए पानी की यह मात्रा प्राप्त होना जरूरी है। उन्होंने बताया कि वर्तमान में उपलब्ध स्रोतों से बीते 20 सालों में अधिकतर समय पूरा पानी नहीं मिल सका है। जिसका असर यहां की जैव विविधता पर पड़ रहा है। शासन सचिव जल संसाधन नवीन महाजन ने जल की उपलब्धता को लेकर सभी स्रोतों के संबंध में वस्तुस्थिति से अवगत कराया। उन्होंने कहा कि विभाग सभी पहलुओं पर गुणावगुण के आधार पर विचार करते हुए उद्यान के लिए कार्ययोजना तैयार करने के प्रयास कर रहा है। डीएफओ, केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान मोहित गुप्ता ने विगत 20 वर्षों में उद्यान में जल की उपलब्धता, वर्तमान स्थिति तथा संभावित समाधान को लेकर प्रस्तुतीकरण दिया। हिन्दुस्थान समाचार/ ईश्वर/संदीप-hindusthansamachar.in