गैर शैक्षणिक कार्यों में ड्यूटी लगाने एवं वेतन कटौती का विरोध
गैर शैक्षणिक कार्यों में ड्यूटी लगाने एवं वेतन कटौती का विरोध
राजस्थान

गैर शैक्षणिक कार्यों में ड्यूटी लगाने एवं वेतन कटौती का विरोध

news

धौलपुर,14 अक्टूबर (हि.स.)। राजस्थान शिक्षक संघ शेखावत के प्रान्तीय आव्हान पर शिक्षकों की ड्यूटी गैर शैक्षणिक कार्यों में लगाने एवं कर्मचारियों के वेतन से प्रतिमाह कटौती करने का शिक्षक संघ शेखावत ने प्रदेश के उपखण्ड मुख्यालयों पर विरोध किया है। बुधवार को धौलपुर में उपशाखा अध्यक्ष हरीसिंह राना के नेतृत्व में एसडीएम के माध्यम से मुख्यमंत्री एवं शिक्षा मंत्री को ज्ञापन दिया गया। प्रदेश संघर्ष समिति संयोजक यादवेन्द्र शर्मा ने बताया कि कई जिलों में बीएलओ की ड्यूटी खाद्य सुरक्षा योजना के तहत राशन कार्ड बनाने में लगाई गई है। गत 5 जून को मुख्य सचिव ने शिक्षकों की ड्यूटी गैर शैक्षणिक कार्यों में नहीं लगाने का आदेश जारी किया है। लेकिन मुख्य सचिव के आदेश जारी करने के बावजूद भी कई जिलों में बीएलओ की ड्यूटी खाद्य सुरक्षा योजना के तहत राशन कार्ड बनाने में लगाई गयी है। बीएलओ की ड्यूटी में 80 प्रतिशत शिक्षक लगे हुए हैं। इसलिए संगठन ने शिक्षकों की ड्यूटी गैर शैक्षणिक कार्यों में लगाने के विरोध में मुख्यमंत्री एवं शिक्षा मंत्री को ज्ञापन दिया है। इसी प्रकार राज्य सरकार राज्य की माली हालत खराब होने के बहाने कोरोना की आड़ में शिक्षकों के वेतन से प्रतिमाह कटौती कर रही है। लेकिन अब राज्य की माली हालत में सुधार दिखाई दे रहा है इसलिए राज्य सरकार ने विधायकों का मकान किराया 30 हज़ार से बढ़ाकर 50 हजार रूपए कर दिया है। जब राज्य की माली हालत ठीक है और सरकार ने विधायकों का मकान किराया बढ़ाया है तो सरकार को शिक्षकों एवं कर्मचारियों के वेतन से प्रतिमाह की जा रही कटौती को बंद करना चाहिए। विरोध प्रदर्शन के दौरान संगठन के जिलाध्यक्ष विशाल गिरि गोस्वामी, रामगोविन्द शर्मा,ओमप्रकाश गुर्जर, रामफूल सिंह, ओमप्रकाश पारोदिया,श्यामवरन कांसल, राकेश कुमार,लाखन सिंह, सुभाष चंद्र, जगन्नाथ प्रसाद आदि शिक्षक मौजूद रहे। हिन्दुस्थान समाचार / प्रदीप-hindusthansamachar.in