इंस्पायर अवार्ड मानक योजना में देश का रोल मॉडल बना झुंझुनू
इंस्पायर अवार्ड मानक योजना में देश का रोल मॉडल बना झुंझुनू
राजस्थान

इंस्पायर अवार्ड मानक योजना में देश का रोल मॉडल बना झुंझुनू

news

झुंझुनू, 07 सितम्बर(हि.स.)। इंस्पायर अवॉर्ड मानक योजना देशभर में चलाया जाने वाला एक अनूठा अभियान है। जिसके तहत भारत सरकार के विज्ञान एवं तकनीकी मंत्रालय द्वारा देश के युवा वैज्ञानिकों की खोज का प्रयास किया जाता है। इस अभियान में झुंझुनू पूरे देश के लिए रोल मॉडल बना है। झुंझुनू जिले में गत वर्ष इंस्पायर अवार्ड योजना में भी विशेष प्रयास शुरू किए गए। सभी अधिकारियों ने पूर्ण सहयोग प्रदान करते हुए जिले भर में इसे एक आंदोलन का रूप दिया और देखते ही देखते झुंझुनू जिले की प्रगति आंकड़ों के ग्राफ पर तेजी से चलने लगी। जब अंतिम दिनांक आई तो देखा कि पूरे देश को आश्चर्यचकित करते हुए झुंझुनू जिले ने 4 हजार 444 आइडियाज अपलोड करवाते हुए पूरे देश में चौथा स्थान प्राप्त किया और राजस्थान में प्रथम स्थान प्राप्त करने में सफल रहा। जब देश के वैज्ञानिकों ने दस लाख में से लगभग एक लाख बाल वैज्ञानिकों का चयन किया तो झुंझुनू के आइडियाज बेहतर व श्रेष्ठ साबित हुए और नॉमिनेशन के चौथे स्थान से दो पायदान की छलांग लगाकर पूरे देश में दूसरा नंबर प्राप्त करते हुए राजस्थान का गौरव बढ़ाया। झुंझुनू जिले के 665 विद्यार्थियों का चयन हुआ। जिनको दस दस हजार रुपये की राशि मिली। इसके अलावा जिला स्तरीय प्रदर्शनियों के बाद राज्य स्तरीय प्रदर्शनी के आयोजन का जिम्मा भी झुंझुनू जिले को मिला और शानदार सफल आयोजन करवाया। जिले के सात बाल वैज्ञानिकों का राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित होने वाली प्रदर्शनी के लिए चयन हुआ जिन्हें पच्चीस - पच्चीस हजार की अतिरिक्त पुरस्कार राशि मिली है। इतनी बड़ी संख्या में एक ही वर्ष में चयन व लगभग सत्तर लाख रुपये के करीब पुरस्कार राशि जीतने के बाद इंस्पायर अवार्ड मानक योजना झुंझुनू जिले के प्रत्येक राजकीय व निजी विद्यालय के संस्था प्रधानों, अध्यापकों और विद्यार्थियों के जबान पर आ चुकी है। करो न की वजह से विद्यार्थी विद्यालय में नहीं आ पा रहे है। लेकिन इस विपरीत परिस्थिति को भी सकारात्मक सोच के साथ जिले के संस्था प्रधानों ने इंस्पायर अवार्ड योजना के लिए एक अच्छा अवसर मान लिया है तथा अपने विद्यार्थियों से लगातार व्हाट्सएप ग्रुप्स के माध्यम से संपर्क रखते हुए उनको अच्छे आइडियाज प्रस्तुत करने व अपलोड करवाने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। इसी का परिणाम है कि लगभग 25 अगस्त को झुंझुनू जिले ने काम शुरू किया और एक सितम्बर के आंकड़ों में पूरे देश में झुंझुनू जिला सोलहवें नंबर पर था। चार सितंबर को 12 वां तथा छह सितंबतर को झुंझुनू जिला नौवें स्थान पर आ चुका है। उम्मीद है कि यह जिला अपने गत वर्ष के प्रदर्शन को निश्चित रूप से न केवल दोहराएगा अपितु उसमें सुधार का भी प्रयास करेगा। झुंझुनू के मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी घनश्यामदत्त जाट ने बताया कि इंस्पायर अवार्ड मानक योजना में झुंझुनू जिले ने गत वर्ष न केवल राजस्थान का नेतृत्व किया है। बल्कि देश में भी राजस्थान का गौरव बढ़ाया है। जिसकी वजह से इस वर्ष राजस्थान के अनेक जिले बहुत अच्छा काम कर रहे हैं। मुझे उम्मीद है कि इस वर्ष हम इतिहास रच देंगे। माध्यमिक शिक्षा विभाग बीकानेर के सहायक निदेशक अशोककुमार शर्मा का कहना है कि गत वर्ष राजस्थान के कई जिलों झुंझुनू, चित्तौड़गढ़, हनुमानगढ़ आदि ने उत्कृष्ट प्रदर्शन करते हुए राजस्थान को गौरवपूर्ण स्थान दिलवाया था। जिसमें झुंझुनू की सबसे महत्वपूर्ण भूमिका रही थी। इस वर्ष भी प्रदेश के अनेक जिले पूर्ण उत्साह के साथ इस अभियान में लगे हुए हैं और उम्मीद है कि अच्छे व सकारात्मक परिणाम मिलेंगे। हिन्दुस्थान समाचार / रमेश/संदीप-hindusthansamachar.in