आरटीयू स्टूडेंट्स अब ई-लर्निंग नोट्स से करेंगें पढाई
आरटीयू स्टूडेंट्स अब ई-लर्निंग नोट्स से करेंगें पढाई
राजस्थान

आरटीयू स्टूडेंट्स अब ई-लर्निंग नोट्स से करेंगें पढाई

news

कोटा, 14 अक्टूबर (हि.स.)। राजस्थान टेक्निकल यूनिवर्सिटी ने सभी सम्बद्ध इंजीनियरिंग व मैनेजमेंट कॉलेजों के स्टूडेंट्स को गुणवत्तापूर्ण उच्च तकनीकी शिक्षा प्रदान करने के लिये बुधवार को तकनीकी शिक्षाविदों एंव प्रोफेसर्स की एक वर्कशॉप आयोजित की। आरटीयू द्वारा गठित समिति ने वृहद टीचिंग डाटाबेस से संकाय विशेषज्ञ नामित किये। नामित शिक्षकों को पोर्टल से टीचिंग टेªनिंग दी गई। इस स्कीम के तहत विशेषज्ञ टीचर्स द्वारा टीचिंग मैटेरियल यूनिवर्सिटी के कॉमन पोर्टल पर उपलब्ध कराया जायेगा। जिससे आरटीयू से सम्बद्ध सभी कॉलेजों के स्टूडेंट्स लाभान्वित होंगे। वर्कशॉप की अध्यक्षता करते हुये आरटीयू कुलपति प्रो.आर.ए.गुप्ता ने बताया कि कोरोना काल की अपरिहार्य स्थितियों में शुरूआत में कई इंजीनियरिंग कॉलेजों के शिक्षक एवं विद्यार्थी डिजिटल लर्निंग और अन्य सपोर्ट एग्रीमेंट के लिये तैयार नही थे। लेकिन आरटीयू द्वारा सभी सम्बद्ध कॉलेजों में क्वालिटी एजुकेशन को बढावा देने के उद्देश्य से फेकल्टी डवलपमेंट प्रोग्राम, हैकाथॉन तथा एच.आर.कॉन्क्लेव जैसे कार्यक्रम निरंतर आयोजित किये जा रहें हैं। विशेषज्ञ शिक्षकों द्वारा तैयार इस ई-लर्निंग रिसोर्स से स्टूडेंट्स विषय से संबंधित सारगर्भित स्टडी मैटेरियल का लाभ उठा सकेंगे। कोविड महामारी में स्टूडेंट्स को कोर्स की किताबों की उपलब्धता नही है इसलिये एक्सपर्ट लेक्चर विषयों के उपयोगी नोट्स तैयार कर आरटीयू वेबसाईट पर अपलोड करेंगे। वर्कशॉप में अकादमिक डीन प्रो.डी.के. पलवलिया ने संचालन करते हुये कहा कि इस अभिनव प्रयोग में शिक्षकों का चयन उनकी शिक्षा, अनुभव एवं विषय विशेषज्ञता के आधार पर किया गया है। आरटीयू ने भविष्य में भी इस तरह के कोर्सेज व विडियो लेक्चर को जारी रखने का निर्णय लिया है। परीक्षा नियंत्रक प्रो.धीरेन्द्र माथुर एवं डीन एफओईए प्रो.बी.पी.सुनेजा ने अपने उपयोगी सुझाव प्रस्तुत किये। डॉ.दीपक भाटिया ने एक प्रजेंटेशन प्रस्तुत कर बताया कि संबद्ध कॉलेजों में उच्चशिक्षित फैकल्टी की कमी को देखते हुये कॉमन पोर्टल पर टीचिंग मैटेरियल किस तरह उपलब्ध करायाा जायेगा। डॉ. जे.बी. शर्मा ने आभार जताया। हिन्दुस्थान समाचार/अरविंद/संदीप-hindusthansamachar.in