अब रोडवेज की डिपो व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त बनाने की कवायद
अब रोडवेज की डिपो व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त बनाने की कवायद
राजस्थान

अब रोडवेज की डिपो व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त बनाने की कवायद

news

जयपुर, 23 जुलाई (हि.स.)। राजस्थान राज्य पथ परिवहन निगम के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक नवीन जैन ने गुरुवार को सभी आगारों एवं केन्द्रीय बस स्टैण्ड के मुख्य प्रबंधकों के साथ वीडियों कांफ्रेंसिंग कर प्रति किलोमीटर आय, अवैध निजी बस संचालन, चालक-परिचालकों के बकाया साप्ताहिक विश्राम, बकाया पेंशन प्रकरण एवं सीपीएफ व जीपीएफ खाते पूर्ण करने के सम्बन्ध में समीक्षा की। सीएमडी नवीन जैन ने मुख्य प्रबंधकों को निर्देश दिया कि मुख्य प्रबन्धक व आगार के अन्य प्रबन्धक रोजाना सांयकाल बैठक कर संचालित हो रही बसों की प्राप्त हो रही आय की समीक्षा करेंगे। मुख्यालय में इस प्रकार की शिकायतें आती रहती है कि पूछताछ के लिए कर्मचारी लगा तो दिए है लेकिन होते नहीं है या फिर सही जानकारी यात्रियों को नही देते हैं। बहुत सारी जगह विलम्ब से आने वाली बसों की सूचना नही दी जाती है। इसलिए सभी बस स्टैण्डों पर पूछताछ कक्ष से बसों के आवागमन की उद्घोषणा कर यात्रियों को सूचित करने की पुख्ता व्यवस्था की जाएं। इस दौरान 11 जुलाई 2020 से पूरे राजस्थान में लागू की गई समय पालक व्यवस्था की समीक्षा की गई और यह अपेक्षा की गई कि लोग इसे यथावत जारी रखें। कुछ आगारों में शिकायत मिलने के कारण सीएमडी ने यह भी निर्देश दिए कि आगारों में मुख्यालय से लगाए गए समय पालकों द्वारा बनाए गए ड्यूटी चार्ट में अन्य कोई कर्मचारी दखल नही दें। इसके साथ ही सीएमडी ने कहा कि कर्मचारी सीपीएफ व जीपीएफ खाते पूर्ण नही होने की शिकायत लेकर मुख्यालय आते हैं और आगारों के प्रबन्धक (वित्त) द्वारा सीपीएफ व जीपीएफ खाते पूर्ण नही करवाए जा रहे है। इसे देखते हुए आगारों के वित्त प्रबन्धकों को सख्त हिदायत दी गई कि सभी कर्मचारियों के सीपीएफ व जीपीएफ खाते 15 दिनों में पूर्ण कर मुख्यालय को सूचित करें। अजमेर जोन के आगारों में इस सम्बन्ध में कार्यवाही उचित नहीं पाए जाने पर नाराजगी प्रकट की गई और सम्बंधित प्रबंधक (वित्त) से अविलम्ब कार्य पूर्ण करने के लिए कहा गया। हिन्दुस्थान समाचार/रोहित/ ईश्वर-hindusthansamachar.in