अजमेर की ऑयल मिल का पार्वती पोस्टमैन तेल नीमच में मिलावटी पाया गया
अजमेर की ऑयल मिल का पार्वती पोस्टमैन तेल नीमच में मिलावटी पाया गया
राजस्थान

अजमेर की ऑयल मिल का पार्वती पोस्टमैन तेल नीमच में मिलावटी पाया गया

news

अजमेर, 15 अक्टूबर(हि.स.)। अजमेर के पड़ाव स्थित पार्वती ऑयल मिल का पार्वती पोस्टमैन तेल मध्यप्रदेश के नीमच में मिलावटी पाया गया है। तेल के पीपों पर मूंगफली का तेल लिखा गया, लेकिन जांच के दौरान मूंगफली के तेल में सोयाबीन का तेल मिला होना पाया गया। नीमच के खाद्य सुरक्षा विभाग ने 1557 लीटर मिलावटी तेल जब्त कर कोर्ट में मामला दायर किया। इस मामले में पार्वती ऑयल मिल के मालिकों के साथ साथ नीमच के विक्रेता एस आर एंटरप्राइजेज के मालिक सुनील मित्तल को भी आरोपी बनाया गया। नीमच के तहसीलदार अजय हिंगे और खाद्य सुरक्षा अधिकारी संजीव मिश्रा ने बताया कि एसआर एंटरप्राइजेज से जब पार्वती पोस्टमैन मार्क वाले तेल के बिल मांगे गए तो उसने अजमेर की पार्वती ऑयल मिल के बिल प्रस्तुत किए। बिलों में भी मूंगफली के तेल का उल्लेख किया गया, लेकिन जब सील बंद पीपो के तेल की जांच की गई तो उसमें सोयाबीन का तेल पाया गया। चूंकि कोर्ट में प्रभावी तरीके से सबूत प्रस्तुत किए गए, इसलिए न्यायाधीश ने 1557 लीटर तेल को नष्ट करने के आदेश दिए। इसके साथ ही अजमेर की तेल मिल पर पचास हजार रुपए और नीमच के विक्रेता पर 25 हजार रुपए जुर्माना लगाया। प्राप्त जानकारी के अनुसार पोस्टमैन मार्क रजिस्टर्ड है। चूंकि पोस्टमैन तेल की मांग ज्यादा है, इसलिए अनेक ऑयल मिल पोस्टमैन के नाम से तेल की बिक्री करती हैं। शुरू का शब्द छोटा लिखा जाता है। ताकि टे्रड मार्क कानून का उल्लंघन न हो। पार्वती पोस्टमैन ऑयल में भी ऐसा ही देखने को मिला है। पोस्टमैन तेल के निर्माताओं ने भी कई बार ट्रेड मार्क कानून के अंतर्गत ऐसी मिलों के खिलाफ शिकायतें की हैं। चूंकि मूंगफली का तेल महंगा होता है, इसलिए उसमें सोयाबीन का सस्ता तेल मिलाया जाता है। उपभोक्ता पोस्टमैन की शुद्धता को देखते हुए मिलावटी तेल को खरीद लेते हैं। इस संबंध में अजमेर के पड़ाव स्थित पार्वती ऑयल मिल के मालिकों से पक्ष जानने का प्रयास किया गया तो उन्होंने कहा कि नीमच में तेल के मिलावटी होने के बारे में कोई जानकारी नहीं है। नीमच की घटना से उनकी मिल का कोई संबंध नहीं है। हिन्दुस्थान समाचार/संतोष/ ईश्वर-hindusthansamachar.in