बारिश के बाद मंडियों में फसलों की खरीद के लिए आवश्यक व्यवस्था - मंडियों से बारिश के पानी की सफाई और निकासी

बारिश के बाद मंडियों में फसलों की खरीद के लिए आवश्यक व्यवस्था - मंडियों से बारिश के पानी की सफाई और निकासी
दाना मंडी गुरदासपुर में बारिश का पानी निकालते मजदूर।

जिला जनसंपर्क कार्यालय, गुरदासपुर, 23 अप्रैल (वाईपी ब्यूरो): जिला मंडी अधिकारी कुलजीत सिंह ने आज कहा कि कल रात से मौसम और बारिश की वजह से मंडियों में गेहूं की आवक रुक गई है। संबंधित मंडियों में फसलों की खरीद की व्यवस्था की गई है। मंडियों को साफ कर दिया गया है और बारिश के पानी को मंडियों से बाहर निकाल दिया गया है ताकि फसल की खरीद में कोई कठिनाई न हो। साथ ही उन्होंने कहा कि मंडियों में गेहूं की हैंडलिंग के लिए पर्याप्त व्यवस्था की गई है और किसानों को किसी भी तरह की कठिनाई नहीं होने दी जाएगी।

जिला मंडी अधिकारी ने आगे कहा कि बारिश ने मंडियों में फसलों की कटाई को भी प्रभावित किया है, लेकिन अब मौसम साफ है और खरीदी गई फसल को चुकाया जाएगा। उन्होंने किसानों से गीले गेहूं की कटाई से बचने और केवल सूखी फसल को मंडियों में लाने की अपील की ताकि उन्हें किसी भी कठिनाई का सामना न करना पड़े। उन्होंने दोहराया कि जिला प्रशासन किसानों के गेहूं के दाने की खरीद करेगा और मंडियों में किसानों को कोई परेशानी नहीं होने दी जाएगी। उन्होंने कहा कि गेहूं की खरीद के साथ-साथ फसल का भुगतान भी निर्धारित समय के भीतर कर दिया गया है और किसानों की सुविधा के लिए बाजार समितियों में हेल्प डेस्क स्थापित किए गए हैं ताकि उन्हें किसी भी तरह की समस्या का सामना न करना पड़े।

उन्होंने आगे कहा कि खराब मौसम के कारण कल ही 2,000 मीट्रिक टन गेहूं आ गया था। जिले की मंडियों में कुल 210306 मीट्रिक टन गेहूं (22 अप्रैल तक) आ चुका है, जिसमें से 196207 मीट्रिक टन की खरीद की जा चुकी है। Pungren ने 62052 MT, Markfed 51883 MT, PUNSUP 43160 MT, वेयरहाउस 25645 MT और FCI 13467 MT की खरीद की। जिले की मंडियों में 5 लाख 15 हजार 94 मीट्रिक टन गेहूं पहुंचने की उम्मीद है। उन्होंने आगे कहा कि मंडियों में 26 फीसदी गेहूं की कटाई हो चुकी है और मौसम खराब होने के कारण फसल कम हो गई है। किसानों को 50 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया है।