bjp-mla-was-not-allowed-to-speak-in-punjab-legislative-assembly
bjp-mla-was-not-allowed-to-speak-in-punjab-legislative-assembly
पंजाब

भाजपा विधायक को पंजाब विधान सभा में नहीं बोलने दिया गया

news

-कृषि कानूनों के नाम पर अकाली , कांग्रेस विधायकों का सदन में हो-हल्ला चंडीगढ़ , 03 मार्च (हि.स.) । तीन कृषि कानूनों को लेकर भाजपा का विरोध बाहर तो जारी ही है। आज पंजाब विधान सभा में भाजपा विधायक अरुण नारंग को राज्यपाल के अभिभाषण पर बोलने नहीं दिया गया। भाजपा विधायक सदन में मिले पार्टी के बोलने के समय के तहत ही खड़े हुए थे लेकिन सत्ताधारी कांग्रेस ही नहीं बल्कि अकाली दल के विधायक भी उनका विरोध करने लग गए। इसके विरोध में भाजपा विधायक नारंग सदन से वाकआउट कर गए। अभी गुजरे नगर निकाय चुनावों में भी भाजपा के उम्मीदवारों का विरोध किसानों द्वारा और किसानों के नाम पर किया गया था। बुधवार को विधान सभा में भाजपा के बोलने का जब वक्त आया तो भाजपा के साथी रहे अकाली दल ने ही सबसे पहले भाजपा विधायक के बोलने का विरोध किया। हालांकि भाजपा विधायक नारंग ने फाजिल्का के गाँव हीरांवाली में एक मंत्री की शह पर लगाई जा रही शराब फैक्टरी का गाँवों द्वारा विरोध की बात को सदन में रख दिया। भाजपा विधायक जब अबोहर नगर निगम चुनाव में हुई हिंसा की बात कर रहे थे तो अकाली विधायक चंदूमाजरा ने विरोध किया और देखते ही देखते सभी अकाली विधायक, कांग्रेस आदि के विधायकों ने विरोध करना शुरू कर दिया। भाजपा विरोधी विधायक सदन में कह रहे थे कि भाजपा ने कृषि अधिनियम लागू किये हैं, इसलिए भाजपा के विधायक को बोलने नहीं दिया जायेगा। आखिरकार हो-हल्ले के बीच भाजपा विधायक की बात रोक दी गई। इस पर रोष स्वरूप भाजपा विधायक नारंग सदन से चले गए। बाद में भाजपा विधायक अरुण नारंग ने बताया कि वे सिर्फ दो मिनट ही बोल सके क्योंकि अन्य विधायकों के विरोध के चलते उन्हें दूसरी बात रखने नहीं दी गई। उन्होंने इस प्रयास को गलत परम्परा बताया। हिन्दुस्थान समाचार/ नरेंद्र जग्गा