पश्चिम रेलवे ने मुंबई मंडल पर छह परिचालन गतिरोधक हटाए

पश्चिम रेलवे ने मुंबई मंडल पर छह परिचालन गतिरोधक हटाए
western-railway-removes-six-operational-impediments-on-mumbai-division

मुंबई, 09 जून, (हि. स.)। ट्रेन परिचालन में संरक्षा और गति में वृद्धि करने के मद्देनजर पश्चिम रेलवे ने अपने सघन मुंबई उपनगरीय खंड में तीन अवरोधकों सहित मुंबई मंडल पर कुल 6 परिचालन गतिरोधक हटाये हैं। पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक आलोक कंसल द्वारा लक्षित तरीके से परिचालन बाधाओं को दूर करने पर बल दिया जा रहा है। वे आधारभूत संरचना के अपग्रेडेशन की ऐसी परियोजनाओं की मॉनिटरिंग करने के साथ ही मंडलों को इस प्रकार के कार्य को तेजी से पूरा करने के लिए प्रेरित करते हैं। इस दिशा में इस प्रकार के अपग्रेडेशन के 6 कार्यों को पूरा करना मुंबई सेंट्रल मंडल की एक अन्य उल्लेखनीय उपलब्धि है। पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सुमित ठाकुर के अनुसार, इन कार्यों के अंतर्गत उपनगरीय खंड पर कांदिवली स्टेशन पर लीफ गेट नंबर 31 की इंटरलॉकिंग, माहिम में अप हार्बर लाइन पर पीएसआर में छूट और माहिम में ईएमयू रेक के लिए तीन स्टेबलिंग लाइनों की शुरुआत शामिल हैं। इसके अलावा, उधना-चलथान के बीच समपार संख्या 6 और भेस्तान के निकट समपार संख्या यूबी -1 को संरक्षा सुनिश्चित करने और ट्रेनों की गति में वृद्धि के लिए पूरी तरह से बंद कर दिया गया है। उधना-चलथान के बीच निर्बाध एवं सुरक्षित रोड तथा रेल यातायात के लिए समपार के स्थान पर कम ऊंचाई वाला सबवे बनाया गया है। सूरत-नंदूरबार व्यस्त खंड पर टाकरखेडे पर एक अलग आइसोलेटर की उपलब्धता पावर ब्लॉक के दौरान रेल ट्रैफिक में अवरोधों को कम करेगी। ठाकुर ने बताया कि माहिम में तीन स्टैब्लिंग लाइनों के निर्माण से तीन 12 डिब्बा ईएमयू रेक को स्टेबल किया जा सकता है तथा यह बांद्रा की ओर जाने वाली ईएमयू सेवाओं को स्टेबलिंग लाइन से निकालने और स्टेबलिंग लाइन में वापस लाने में सहायक होगा। स्थायी गति प्रतिबंधों में छूट से माहिम के दक्षिण दिशा में डाउन हार्बर लाइन पर ट्रेनों की गति 35 किमी प्रति घंटे से बढ़कर 50 किमी प्रति घंटा हुई है, जबकि माहिम के उत्तरी यार्ड में अप हार्बर लाइन पर गति 20 किमी प्रति घंटे से बढ़ाकर 35 किमी प्रति घंटा हो गई है। इससे ट्रेनों की समयपालनता प्रति ट्रेन 2 मिनट तक बढ़ गई है। इसी तरह, कांदिवली स्टेशन पर लीफ गेट नंबर 31 की इंटरलॉकिंग ट्रेनों की सुरक्षित और सुचारू आवाजाही को सुनिश्चित करने की दिशा में एक और कदम है। इससे कांदिवली कार-शेड में वेहिकल मूवमेंट के लिए सुरक्षित गलियारा मिलेगा साथ ही यह एसटीए लाइन पर ट्रेन परिचालन को सुरक्षित बनायेगा। उधना-चलथान खंड पर समपार संख्या 6 और भेस्तान में समपार संख्या यूबी -1 को स्थायी रूप से बंद करने से समयपालनता में सुधार होगा। रेल के साथ-साथ रोड ट्रैफिक को सुरक्षित बनाने के अतिरिक्त इससे गेट फेलियर होने तथा गेट लेट बंद होने की संभावनाएं खत्म हो गई हैं। ठाकुर ने आगे बताया कि सूरत-नंदुरबार खंड पर टाकरखेडे में एक सेपरेट आइसोलेटर उपलब्ध कराया गया है। गौरतलब है कि इससे पावर ब्लॉक के दौरान 10 किमी तक यातायात में अवरोध कम होगा। पहले पावर ब्लॉक के दौरान ट्रेनों को पूर्व के स्टेशन पर रेगुलेट करना पड़ता था। अब इससे रेल ट्रैफिक में होने वाले अवरोध से छुटकारा मिल गया है। ठाकुर ने बताया कि मुंबई मंडल ने एक बार फिर आपदा में अवसर ढूंढे हैं और उपरोक्त परिचालन बाधाओं और बॉटलनेक को सफलतापूर्वक दूर कर उपर्युक्त अवरोधकों को हटाया है, जो ट्रेनों की सुरक्षा और गति में सुधार करने में अत्यंत सहायक होगा। हिन्दुस्थान समाचार/दिलीप