पश्चिम रेलवे ने लीज टेंडरों से अर्जित राजस्व में दर्ज की वृद्धि

पश्चिम रेलवे ने लीज टेंडरों से अर्जित राजस्व में दर्ज की वृद्धि
western-railway-recorded-an-increase-in-revenue-earned-from-lease-tenders

मुंबई, 01 मई (हि.स.)। पश्चिम रेलवे ने कोरोना संकट के दौरान देशभर में अपनी पार्सल एवं एक्सप्रेस ट्रेनों में जुड़े एसएलआर डिब्बों के माध्यम से सभी पार्सल आकारों में चिकित्सा आपूर्ति, चिकित्सा उपकरण, भोजन, ई-कॉमर्स आदि आवश्यक वस्तुओं के परिवहन को सुनिश्चित किया है। पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सुमित ठाकुर के अनुसार चालू वित्तीय वर्ष में पश्चिम रेलवे के मुंबई डिवीजन ने ट्रेन नं. 02951 मुंबई सेंट्रल नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस में पार्सल वैन के पट्टे को लेकर 17.76 करोड़ रुपये प्रतिवर्ष के लिए एक नया अनुबंध किया है। 4,86,666/ - रुपये प्रति राउंड ट्रिप का प्रस्ताव आरक्षित मूल्य 2,47,464 / रुपये प्रति राउंड ट्रिप की तुलना में 96.66 प्रतिशत अधिक है। इस प्रकार इससे 5 वर्षों में 94.37 करोड़ रुपये कुल राजस्व की प्राप्ति होगी। इसी तरह ट्रेन 02955 मुंबई सेंट्रल-जयपुर विशेष ट्रेन में, पार्सल वैन को लीज पर देने के अनुबंध से 5.36 करोड़ रु प्रति वर्ष और 5 वर्ष में 28.52 करोड़ रुपये का राजस्व प्राप्त होगा। उल्लेखनीय है कि मुंबई डिवीजन 12 एसएलआर निविदाओं के लिए प्राप्त प्रस्तावों को अंतिम रूप देने की प्रक्रिया में है, जिससे 3.92 करोड़ रुपये प्रति वर्ष राजस्व के साथ 5 वर्षों में 20.86 करोड़ रुपये के कुल राजस्व की प्राप्ति होगी। ठाकुर ने बताया कि वर्ष 2020-21 में मुंबई डिवीजन ने सफलतापूर्वक 4.76 करोड़ रुपये के वार्षिक राजस्व और 5 वर्षों में 23.84 करोड़ रुपये के राजस्व प्रदान करने वाले 9 नए पार्सल लीजिंग अनुबंधों का करार किया। इस से पश्चिम रेलवे की बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट द्वारा प्रदर्शित किए गए व्यावसायिक दृष्टिकोण और रेलवे की सेवाओं के प्रति उद्योगों के विश्वास को समझा जा सकता है। ट्रेन नंबर 02951 मुंबई सेंट्रल-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस के एसएलआर के लीज अनुबंध के लिए पश्चिम रेलवे का मुंबई डिवीजन 46,901 / - रुपये प्रति ट्रिप का प्रस्ताव पाने में सफल रहा, जो प्रचलित बाजार दर से अधिक है और इस तरह 5 वर्षों में 1.71 करोड़ रुपये का वार्षिक और 5 वर्षों में 9.09 करोड़ रुपये राजस्व उत्पन्न होगा। कोरोना महामारी के कारण चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों के बावजूद पश्चिम रेलवे मुख्यालय और सभी छह मंडलों में स्थापित अपनी बहुउद्देशीय व्यावसायिक विकास इकाइयों के प्रयासों से नई ऊंचाइयों को छू रही हैं। पिछले वित्त वर्ष 2020-21 में, पार्सल परिवहन के माध्यम से मुंबई डिवीजन का राजस्व 68.39 करोड़ रुपये रहा, जो 58.63 करोड़ रुपये के लक्ष्य से 16.65 प्रतिशत अधिक था। मंडल ने मार्च 2021 में 10.82 करोड़ रुपये का उच्चतम पार्सल राजस्व प्राप्त किया और 23 मार्च, 2021 को 67.43 लाख रुपये का एक दिन का उच्चतम राजस्व दर्ज किया। हिन्दुस्थान समाचार/दिलीप