पश्चिम रेलवे: अनधिकृत फेरीवालों व विक्रेताओं पर कार्रवाई

पश्चिम रेलवे: अनधिकृत फेरीवालों व विक्रेताओं पर कार्रवाई
western-railway-action-on-unauthorized-hawkers-and-vendors

-वर्ष 2020-21 में वसूला गया 52 लाख रुपये का जुर्माना मुंबई, 26 अप्रैल (हि.स.)। पश्चिम रेलवे द्वारा नियमित रूप से एवं विशेषत: कोविड-19 की वर्तमान स्थिति को देखते हुए रेलवे परिसर में अनधिकृत फेरी वालों के विरुद्ध अभियान चलाए जा रहे हैं। इसी क्रम में आरपीएफ की मंडल इकाई द्वारा विभिन्न उपायों के माध्यम से अनधिकृत फेरी वालों आदि के विरुद्ध विशेष अभियान चला रही है। आरपीएफ द्वारा अनधिकृत विक्रेताओं, अवैध फेरीवालों, भिखारियों आदि के विरुद्ध वर्ष 2020 में नियमित रूप से सघन जांच अभियान चलाए गए, जिसमें अनधिकृत फेरीवालों के 8654 मामलों का पता लगाया गया। इन सघन जांच के फलस्वरूप जुर्माने स्वरूप 32,84,510 रु. वसूल किए गए। वर्ष 2021 में (24 अप्रैल, 2021) तक अनधिकृत फेरीवालों, भिखारियों इत्यादि के विरुद्ध 7699 मामले दर्ज किए गए तथा 7695 व्यक्तियों को गिरफ्तार कर, उनसे जुर्माना वसूल कर रेलवे परिसर से बाहर निकाला गया। वर्ष 2021 में इन मामलों से 19,70,045 रु. जुर्माना स्वरूप वसूल किए गए। पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सुमित ठाकुर के अनुसार वर्ष 2020 में पश्चिम रेलवे के मुंबई सेंट्रल मंडल पर अनधिकृत विके्रताओं, भिखारियों के विरुद्ध 4,438 मामले दर्ज किए गए तथा उनसे जुर्माने स्वरूप 21,97,600 रु. वसूल किए गए। वर्ष 2021 में (24 अप्रैल, 2021) तक मंडल पर अनधिकृत विके्रताओं एवं अवैध फेरी वालों आदि के विरुद्ध 3,698 मामले दर्ज किए गए तथा इनसे रेलवे एक्ट 144ए के अंतर्गत जुर्माने स्वरूप 15,50,195 रु. वसूल किए गए। हाल ही में ट्रेन संख्या 09045 में अनधिकृत फेरी के दो मामलों का पता लगाया गया। रेलवे एक्ट की धारा 144 के अंतर्गत अनधिकृत रूप से विक्रय करने, भीख मांगने पर 2000 रु. तक का जुर्माना तथा एक साल की कैद अथवा दोनों का प्रावधान है। वैध एवं रेल उपयोगकर्ताओं को बेहतर सेवा प्रदान करने के प्रयास में पश्चिम रेलवे नियमित रूप से आवश्यक कदम उठा रही है। यात्री रेल मदद ऐप अथवा हेल्पलाइन नंबर 139 पर अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। हिन्दुस्थान समाचार/दिलीप