पश्चिम रेलवे : वर्ष 2021-22 में अब तक 11.62 मिलियन टन का लदान

पश्चिम रेलवे : वर्ष 2021-22 में अब तक 11.62 मिलियन टन का लदान
western-railway-1162-million-tonnes-of-shipments-so-far-in-the-year-2021-22

मुंबई, 28 मई, (हि. स.)। पश्चिम रेलवे की गुड्स और पार्सल विशेष ट्रेनें आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति को चालू रखने के लिए देश भर में लगातार चलायी जा रही हैं। इसी क्रम में पश्चिम रेलवे ने देश के विभिन्न हिस्सों में आवश्यक वस्तुओं के परिवहन के लिए 1 अप्रैल, 2021 से 27 मई, 2021 तक 132 पार्सल ट्रेनें चलाई हैं। इस अवधि के दौरान मालगाड़ियों में 11.62 मिलियन टन लदान दर्ज किया गया, जबकि पिछले वर्ष की इसी अवधि में यह 8.13 मिलियन टन था। पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक आलोक कंसल के मार्गदर्शन, प्रेरणा और निरंतर निगरानी के कारण ये उपलब्धियां संभव हुई हैं। पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी सुमित ठाकुर द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, 1 अप्रैल, 2021 से 27 मई, 2021 तक, पश्चिम रेलवे ने अपनी विभिन्न पार्सल विशेष ट्रेनों के माध्यम से 48 हजार टन से अधिक वजन वाली वस्तुओं का परिवहन किया है, जिसमें कृषि उपज, दवाएं, चिकित्सा उपकरण, मछली, दूध आदि शामिल हैं। जिससे लगभग 16.19 करोड़ रु का प्राप्त राजस्व हुआ। पश्चिम रेलवे द्वारा 20 हजार टन से अधिक दूध के परिवहन के साथ 28 मिल्क स्पेशल ट्रेनें चलाई गईं और वैगनों का 100% उपयोग किया गया। इसी प्रकार, 32 कोविड -19 विशेष पार्सल गाड़ियों चलायी गयीं तथा 5700 टन आवश्यक वस्तुओं का परिवहन किया गया। इसके अतिरिक्त,10720 टन भार वाले 21 इंडेंटेड रेक भी शत-प्रतिशत उपयोग के साथ चलाये गये। किसानों को उनके उत्पादों के लिए नए बाजार उपलब्ध कराने और किफायती तथा तेज परिवहन के लिए इस अवधि में विभिन्न मंडलों से लगभग 11758 टन भार के साथ 51 किसान रेलें भी चलाई गईं। 1 अप्रैल, 2021 से 27 मई, 2021 तक 11.62 मिलियन टन आवश्यक वस्तुओं के परिवहन के लिए मालगाड़ियों के कुल 5518 रेक चलाये गये। 11883 फ्रेट ट्रेनों को अन्य जोनल रेलवे के साथ इंटरचेंज किया गया, जिसमें अलग-अलग इंटरचेंज पॉइंट पर 5926 ट्रेनों को हैंडओवर किया गया और 5957 ट्रेनों को टेकओवर किया गया। बिजनस डेवलपमेंट यूनिटें (BDUs) रेलवे बोर्ड द्वारा शुरू की गई प्रोत्साहन योजनाओं के साथ मौजूदा और संभावित माल ग्राहकों के साथ लगातार संपर्क में हैं ताकि रेल से उनके माल के त्वरित, विश्वसनीय, किफायती और थोक परिवहन के लिए उन्हें प्रोत्साहित कर सकें। ठाकुर ने आगे बताया कि पश्चिम रेलवे द्वारा अब तक 59 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनें चलाई गईं और 289 टैंकरों के जरिये लगभग 5444 टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन (LMO) परिवहन किया गया है। 28 मई, 2021 को गुजरात से तीन ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनें रवाना हुईं। इन ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनों में से दो क्रमशः राजकोट मंडल के कनालुस से आंध्र प्रदेश के गुंटूर के लिए 4 टैंकरों के साथ और दूसरी ऑक्सीजन एक्सप्रेस कर्नाटक में बैंगलोर के लिए 6 टैंकरों के साथ रवाना हुईं। एक अन्य ऑक्सीजन एक्सप्रेस राजकोट मंडल के हापा से 7 टैंकरों के साथ दिल्ली के लिए रवाना हुई, जिनमें 4 टैंकर उत्तर प्रदेश के लिए और 3 टैंकर दिल्ली के लिए थे। पश्चिम रेलवे द्वारा रवाना किये गए 17 टैंकरों के जरिये कुल लगभग 324 टन एलएमओ का परिवहन किया गया। हिन्दुस्थान समाचार/दिलीप

अन्य खबरें

No stories found.