वीवीएमसी क्षेत्र में 11 दिन में कोरोना के छह हजार मरीज, 18 की मौत

वीवीएमसी क्षेत्र में 11 दिन में कोरोना के छह हजार मरीज, 18 की मौत
six-thousand-patients-of-corona-18-dead-in-11-days-in-vvmc-area

मुंबई, 12 अप्रैल (हि.स.)। पालघर जिले के वसई विरार शहर नगर निगम (वीवीएमसी) क्षेत्र में कोरोना का कहर बढ़ता ही जा रहा है। महज 11 दिनों में यहां 6012 नए मरीज पाए गए हैं, जबकि 18 लोगों की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई है। वसई विरार में मरीजों की कुल संख्या 39,183 पहुंच गई है। वहीं 32,459 मरीज ठीक होकर घर लौटे हैं। 5792 मरीजों का अलग अलग अस्पतालों में उपचार चल रहा है। अबतक कुल 932 लोगों की जान जा चुकी है। नगर निगम की मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. सुरेखा वालके ने बताया कि नागरिकों को जिम्मेदारी से गाइडलाइन्स का पालन करना चाहिए। भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में नहीं जाना चाहिए। मास्क पहना बहुत जरूरी है। सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान दें। गर्म पानी का सेवन करें। हाथों को बार बार साबुन से साफ करें। बुखार या खांसी आने पर नजदीकी डॉक्टरों से सम्पर्क करें, कोरोना महामारी जैसी बीमारी को हल्के में न लें। महापौर राजीव पाटील ने बताया कि वसई विरार में सरकारी व निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन की भारी कमी होने के चलते लोगों की जान जा रही है। वसई विरार में रायगढ़ से गैस सप्लाई होती है। पिछले कुछ दिनों से यहां गैस नहीं पहुंच पा रही है। इसलिए यहां गैस की भारी कमी हो गई है। पाटील ने बताया कि यहां लगभग छह हजार कोरोना मरीजों का उपचार चल रहा है। उन्हें गैस की बहुत जरूरत है। अगर गैस नहीं मिलती है तो बड़ी जनहानि होने की संभावना है। प्रशासन को जल्द से जल्द इस समस्या पर ध्यान देना होगा। वसई विरार में कोरोना के रिकॉर्ड मामले आने से यहां के सरकारी अस्पतालों में मरीजों के लिए बेड उपलब्ध नहीं हैं। यही हाल निजी अस्पतालों का भी है। स्टार अस्पताल के मुख्य डॉक्टर महाबली सिंह ने बताया कि बेड व ऑक्सीजन की काफी दिक्कत है। अगर मामले इसी तरह बढ़ते गए तो आगे चलकर लोगों के लिए काफी परेशानी बढ़ सकती है। सिंह ने कहा कि भले ही वैक्सीन आ गई है, लेकिन वैक्सीन लेने वालों को भी कोरोना हो रहा है। लोगों को सतर्क रहना चाहिए। बेवजह घर से बाहर न निकलें। आपकी लापरवाही आप पर ही भारी पड़ सकती है। हिन्दुस्थान समाचार/दिलीप