गणेशोत्सव के दौरान कोरोना से बचाव लिए  कोंकण में गठित हों ग्रामीण सतर्कता समितियां: मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे
गणेशोत्सव के दौरान कोरोना से बचाव लिए कोंकण में गठित हों ग्रामीण सतर्कता समितियां: मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे
महाराष्ट्र

गणेशोत्सव के दौरान कोरोना से बचाव लिए कोंकण में गठित हों ग्रामीण सतर्कता समितियां: मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

news

मुंबई, 17 जुलाई (हि. स.)। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने गणेशोत्सव के दौरान कोंकण में कोरोना महामारी से बचाव के लिए ग्रामीण सतर्कता समितियां गठित करने पर बल दिया है। मुख्यमंत्री ने विश्वास जताया कि ग्राम सतर्कता समितियों और गणेश मंडल सरकार का सहयोग कर सकते हैं। इससे यह सुनिश्चित हो सकेगा कि गांवों में गणेशोत्सव सुरक्षित और बिना किसी बाधा के संपन्न होगा। रायगढ़, रत्नागिरी और सिंधुदुर्ग जिला कलेक्टरों के साथ हुई कोरोना उपायों की समीक्षा बैठक में शुक्रवार को मुख्यमंत्री ने उक्त बातें कहीं। गणेशोत्सव के दौरान मुंबई से बड़े पैमाने पर लोग विशेष रूप से रत्नागिरि, सिंधुदुर्ग जिले में उत्सव अपने घरों में जाकर पारंपरिक रूप से मनाते हैं। कोरोना का संसर्ग शहरी भागों में अधिक दिखाई दे रहा है, उसी तरह ग्रामीण भागों में भी दिखाई देने लगा है। रायगढ़ जिले में कोरोना बढ़ रहा है। हालांकि उस तुलना में रत्नागिरी, सिंधुदुर्ग जिले में कोरोना का प्रकोप उतना नहीं है। फिर भी गणेशोत्सव के दौरान नागरिकों की होनेवाली भीड़ के मद्देनजर प्रशासन को बहुत सावधान और सतर्क रहने का निर्देश मुख्यमंत्री ने दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार के गृह विभाग ने सभी सार्वजनिक गणेशोत्सव मंडलों के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं। उसका कड़ाई से पालन किया जाना चाहिए। बड़े गणेश मंडलों से बात करके सर्वसम्मति से इस साल के उत्सव को मनाने के लिए कुछ नियम तय किए गए हैं। कोंकण में भी इसका पालन करना बहुत आवश्यक है। गणेश मंडल अपने-अपने गांवों में स्वास्थ्य शिविर भी आयोजित करें। सादगी से उत्सव मनाएं। भीड़ से बचें, मास्क पहनें और सामाजिक दूरी के नियमों का कड़ाई से पालन करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि रत्नागिरी, सिंधुदुर्ग में परीक्षण प्रयोगशाला शुरू की गई है। रायगड के लिए भी जल्द से जल्द कार्यान्वित की जाएगी। इन जिलों में आइसोलेशन बेड और अन्य चिकित्सा सुविधाओं की संख्या में भी जल्द से जल्द इजाफा किया जाना चाहिए। रायगड की जिलाधिकारी निधि चौधरी ने इस मौके पर बताया कि वर्तमान में 3500 रोगी उपचार ले रहे हैं। 1900 नागरिकों को घर पर आइसोलेशन किया गया है। पिछले कुछ दिनों में, दक्षिण रायगढ़ क्षेत्र में कोरोना की संख्या में वृद्धि हुई है।आइसोलेशन के लिए 10 इमारतों का अधिग्रहण किया गया है और हम 5500 आइसोलेशन बेड उपलब्ध करा रहे हैं। प्रत्येक तहसील में 200 बेड्स का एक कोविद केंद्र है। इसी प्रकार कामोठे के एमजीएम अस्पताल में 350 बेड और डीवाई पाटिल अस्पताल में 150 बेड के लिए करार पर हस्ताक्षर किए गए हैं। जिले को 15 और वेंटिलेटर मिले हैं। 15 अगस्त से पहले रायगढ़ जिले के लिए एक प्रयोगशाला स्थापित की जाएगी। कोरोना परीक्षण की संख्या को प्रति दिन तीन हजार तक ले जाने का लक्ष्य है। हिन्दुस्थान समाचार/ विनय/ राजबहादुर-hindusthansamachar.in