ग्राम पंचायतों में प्रशासक नियुक्त करने का विवाद, प्रकाश आंबेडकर ने की राज्यपाल कोश्यारी से मुलाकात
ग्राम पंचायतों में प्रशासक नियुक्त करने का विवाद, प्रकाश आंबेडकर ने की राज्यपाल कोश्यारी से मुलाकात
महाराष्ट्र

ग्राम पंचायतों में प्रशासक नियुक्त करने का विवाद, प्रकाश आंबेडकर ने की राज्यपाल कोश्यारी से मुलाकात

news

मुंबई, 17 जुलाई (हि. स.)। महाराष्ट्र में कार्यकाल समाप्त होनेवाली ग्राम पंचायतों में प्रशासक नियुक्त करने के मामले को लेकर विवाद बढ़ता नजर आ रहा है। भाजपा के विरोध के बाद अब वंचित बहुजन विकास आघाड़ी भी इस फैसले के खिलाफ उठ खड़ी हुई है। आघाड़ी के मुखिया प्रकाश आंबेडकर ने शुक्रवार को राजभवन जाकर राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की और राज्य सरकार के इस निर्णय को वापस लेने की मांग की। प्रकाश आंबेडकर ने राज्यपाल से अनुरोध किया कि ग्राम पंचायतों पर प्रशासक नियुक्त करने का फैसला असंवैधानिक है। कोरोना को देखते हुए संभव हो तो शीघ्र ग्राम पंचायतों का चुनाव कराया जाए या फिर चुनाव होने तक ग्राम पंचायतों का कार्यकाल बढ़ाया जाए। आंबेडकर ने आरोप लगाया कि कई राजनीतिक दलों की दुकानदारी शुरू हो गई है। प्रशासक नियुक्त करने का फैसला वापस लिया जाना चाहिए। याद दिला दें कि महाराष्ट्र की 14 हजार ग्राम पंचायतों का कार्यकाल दिसंबर तक समाप्त हो रहा है। कोरोना महामारी के कारण ग्राम पंचायतों का चुनाव कराना संभव नहीं है। लिहाजा राज्य सरकार ने 13 जुलाई को फैसला लिया था कि जिन ग्राम पंचायतों का कार्यकाल समाप्त हो रहा है, वहां प्रशासक की नियुक्ति की जाएगी। राज्य सरकार के इस फैसले के बाद सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच टकराव बढ़ने के आसार हैं। राज्य सरकार के इस फैसले पर विपक्षी दल भाजपा ने कड़ा ऐतराज जताया है। पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने मांग की थी कि इस फैसले को तुरंत वापस लिया जाना चाहिए। पार्टी ग्राम पंचायतों पर राजनीतिक दलों के प्रशासक नियुक्त करने के खिलाफ है। हालांकि ग्राम विकास मंत्री हसन मुश्रीफ ने राज्य सरकार के फैसले को सही ठहराया है। हिन्दुस्थान समाचार/ विनय/ राजबहादुर-hindusthansamachar.in