महाराष्ट्र में पिछले 10 वर्षों में कपास की रिकॉर्ड खरीदारी
महाराष्ट्र में पिछले 10 वर्षों में कपास की रिकॉर्ड खरीदारी
महाराष्ट्र

महाराष्ट्र में पिछले 10 वर्षों में कपास की रिकॉर्ड खरीदारी

news

मुंबई, 23 जुलाई (हि. स.)। महाराष्ट्र में कोरोना की स्थिति और बारिश के बावजूद विपणन विभाग ने 218.73 लाख क्विंटल कपास की रिकॉर्ड खरीदी की है। इस संदर्भ में मंत्रिमंडल ने गुरुवार को कपास की खरीद में संबंधितों के प्रयासों के लिए मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री, सहकारिता और विपणन मंत्री को बधाई दी। एक प्रस्तुति देते हुए विपणन विभाग के प्रमुख सचिव अनूप कुमार ने कहा कि पिछले 10 वर्षों में इस तरह की कपास की रिकॉर्ड खरीदारी नहीं की गई है। इस खरीद का कुल मूल्य 11,776.89 करोड़ रुपये है और किसानों को अब तक 11,029.47 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया है। इसीतरह सीसीआई ने यह भी घोषणा की है कि वह 30 सितंबर, 2020 तक एफएक्यू ग्रेड के कपास की खरीदी की जाएगी।राज्य में सीसीआई और स्टेट कॉटन मार्केटिंग फेडरेशन ने कोविद -19 के प्रकोप से पहले क्रमशः 91.90 और 54.03 लाख क्विंटल कपास की खरीद की। इस प्रकार कुल 145.93 क्विंटल कपास की खरीद की गई। कोविद -19 की व्यापकता के कारण कपास का बाजार मूल्य समर्थन मूल्य से कम होने के कारण, किसानों का प्रयास सरकारी खरीद केंद्रों में बेचने का अधिक था। सरकारी खरीदी की योजना बनाकर कोविद -19 अवधि के दौरान सीसीआई और कॉटन मार्केटिंग फेडरेशन ने अब तक क्रमश: 35.70 और 36.75 लाख क्विंटल कुल मिलाकर 72.45 लाख क्विंटल कपास की खरीद की है। राज्य में सरकारी और निजी कुल 418.8 लाख क्विंटल की खरीदी हुई है। वास्तविक रुप में 410 लाख क्विंटल कपास की खरीदी अपेक्षित थी। कुल 8 लाख 64 हजार 72 किसानों ने कपास की खरीद की। हिन्दुस्थान समाचार/ विनय/ राजबहादुर-hindusthansamachar.in