बिजली बिल को लेकर बढ़ा टकराव, भाजपा ने दायर की याचिका
बिजली बिल को लेकर बढ़ा टकराव, भाजपा ने दायर की याचिका
महाराष्ट्र

बिजली बिल को लेकर बढ़ा टकराव, भाजपा ने दायर की याचिका

news

मुंबई, 30 जुलाई (हि.स.)। महाराष्ट्र में लॉक डाउन के दौरान बिजली कंपनियों द्वारा ग्राहकों को भेजे गए भारी बिल को लेकर टकराव बढ़ता जा रहा है। भाजपा ने इस मामले को लेकर महाराष्ट्र विद्युत नियामक आयोग में याचिका दायर की है। बिजली कंपनी द्वारा दर में की गई बढ़ोत्तरी को तत्काल रद्द करने और 300 यूनिट तक के बिजली बिल माफ करने की मांग की गई है। भारतीय जनता पार्टी ने लॉक डाउन के दौरान भेजी गई भारी बिजली बिलों के खिलाफ विरोध जताया है। भाजपा के पूर्व सांसद डॉ. किरीट सोमैया और ठाणे शहर भाजपा अध्यक्ष विधायक निरंजन डावखरे ने राज्य विद्युत नियामक आयोग में याचिका दायर की है। ग्राहकों को भेजे गए गलत बिल की फिर से जांच करने, बिल न भरने पर ग्राहकों की बिजली आपूर्ति ना काटने, 100 यूनिट तक की बिजली मुफ्त देने के साथ ही 300 यूनिट तक सहूलियत की दर पर बिजली देने, लॉकडाउन के समय विद्युत मंडल द्वारा की गई दर में वृद्धि रद्द करने और बिजली बिल भरने के लिए 6 महीने का समय देने की मांग की गई है। याचिका में कहा गया है कि लॉकडाउन के दौरान अनेक व्यावसायिकों और घरेलू ग्राहकों को बड़े पैमाने पर बिजली बिल भेजा गया है। अनेक ग्राहकों को औसत बिल के नाम पर बिल बढ़ाकर भेजा गया है। लॉकडाउन के दौरान व्यवसाय बंद रहने पर भी सैकड़ों यूनिट का उपयोग करने के लिए ग्राहकों को बिल भेजा गया है। घरेलू ग्राहकों को भी इसी तरीके से गलत बिल भेजा गया है। सामान्य व्यक्तियों को इस बढे हुए बिल को भरना संभव नहीं है। बिजली बिल न भरने पर बिजली आपूर्ति काटने के भी मामले सामने आए हैं। तत्काल इस पर रोक लगाकर कोरोना महामारी में संकट झेल रही जनता को राहत दी जाए। हिन्दुस्थान समाचार/ विनय/ राजबहादुर-hindusthansamachar.in