एसओपी निश्चिति के बाद ही थियेटर शुरू करने को लेकर विचार किया जाएगा  - मुख्यमंत्री
एसओपी निश्चिति के बाद ही थियेटर शुरू करने को लेकर विचार किया जाएगा - मुख्यमंत्री
महाराष्ट्र

एसओपी निश्चिति के बाद ही थियेटर शुरू करने को लेकर विचार किया जाएगा - मुख्यमंत्री

news

मुंबई, 15 अक्टूबर (हि. स.)।राज्य के थिएटर शुरू करने के लिए सांस्कृतिक कार्य विभाग ने पहल करते हुये इस संदर्भ में एसओपी (आदर्श कार्यपद्धति) तैयार की है। इस एसओपी की निश्चिति होने के बाद ही थिएटर शुरू करने को लेकर विचार किया जाएगा, यह मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा।कोविड - 19 की वजह से राज्य के थियेटर पिछले छह महीने से बंद है और इसके मद्देनजर मुख्यमंत्री ने मल्टिप्लेक्स, थियेटर मालिकों से वीडियो कॉन्फ़रन्स के द्वारा चर्चा की, इस दौरान मुख्यमंत्री ने राज्य के थिएटर जल्द ही शुरू करने को लेकर आश्वस्त किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य का कोविड -19 बहुत बड़ा संकट है और इस संकट की घड़ी में थिएटरों को मालिक सरकार के साथ है, इस बात का समाधान है। फिल्मों को चलाने तथा दिखाने के लिए थिएटरों की आवश्यकता होती है, यह बात सच है, लेकिन महाराष्ट्र ने पुनश्च हरिओम करते हुये कामगारों को काम मिल सके, इसके लिए उद्योग क्षेत्र शुरू किया है। जिसके बाद हॉटेल, रेस्टॉरंट 50 फीसदी क्षमता से शुरू करने को लेकर भी हाल भी अनुमति दी गई है। अब मेट्रो सेवा शुरू की गई है। रेलवे में भीड़ न हो, इसके लिए लोकल की फेरी भी बढ़ाई है। राज्य के थिएटरों को भी शुरू करने को लेकर सकारात्मकता रखते हुये इसके लिए निश्चित की गई एसओपी के अनुसार ही थिएटर शुरू किए जाने की बात उन्होंने कहीं। मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा कि विश्वभर में कुछ देशों में कोविड -19 का संक्रमन बढ़ने से युरोप, ऑस्ट्रेलिया, स्वीडन जैसे जगहों पर फिर से लॉकडाऊन करना पड़ा। ठंडी के दिनों में कोविड-19 का प्रकोप बढ़ सकता है, यह इशारा भी दिया गया है, इसलिए हमें बहुत ही ध्यान से तथा खबरदारी से आगे बढ़ना है। महाराष्ट्र में हम चरणबद्ध तरीके से अनलॉक कर रहे है, लेकिन महाराष्ट्र में फिर से लॉकडाऊन करने की नौबत न आ सके, यहीं हमारा लक्ष्य है। थिएटरों में वातानुकुलित वातावरण में दर्शक फिल्में देखने के लिए आने के बाद कम से कम दो घंटे बंदिस्त स्थान पर रहता है, इस दौरान उसे संक्रमन न हो सके, इस बात का भी ध्यान रखना जरूरी है। थिएटरों में स्वच्छता रखना, थियेटर समय-समय पर सैनिटाईज करना, सिनेमाघरों में कुल आसनक्षमता के सिर्फ 50 फीसदी दर्शकों का होना, आदि सभी बातों को ध्यान रखना तथा इसका पालन करना जरूरी है। एसओपी का पालन, स्वच्छता, सुरक्षितता, दर्शकों ने मास्क लगाना, सैनिटाईज करने के साथ-साथ शारीरिक दूरी बनाए रखना भी बहुत जरूरी है। हिन्दुस्थान समाचार / राजबहादुर-hindusthansamachar.in