अर्नब गोस्वामी सहित तीन को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया
अर्नब गोस्वामी सहित तीन को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया
महाराष्ट्र

अर्नब गोस्वामी सहित तीन को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया

news

(नोट -यह खबर मुंबई से ही चल चुकी है) मुंबई, 05 नवम्बर (हि.स.) । दो वर्ष पहले 53 वर्षीय इंटीरियर डिजाइनर और उसकी मां के आत्महत्या मामले में गिरफ्तार किए गए टीवी पत्रकार अर्नब गोस्वामी को अलीबाग कोर्ट में पेश किया गया।10 घंटे तक चली बहस के बाद कोर्ट ने पुलिस रिमांड खारिज करते हुए 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। पुलिस ने बताया कि इसी इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाईक और उसी मां की आत्महत्या के मामले में गोस्वामी को उनके घर से गिरफ्तार किया गया है । गोस्वामी को मुंबई से 90 किलोमीटर दूर अलीबाग की स्थानीय कोर्ट में पेश किया गया। पत्रकार गोस्वामी के वकील ने गोस्वामी पर हमला किए जाने का आरोप लगाया। गोस्वामी के वकील गौरव पारकर ने बताया कि सुबह उनके घर पर घुसे पुलिस दल ने उन पर शारीरिक रूप से हमला किया। कोर्ट ने इनका संज्ञान लिया और पुलिस को मेडिकल जांच के लिए अर्नब को सिविल अस्पताल ले जाने का निर्देश दिया। पारकर ने बताया कि मेडिकल जांच के बाद गोस्वामी की रिमांड पर सुनवाई के लिए उन्हें दोबारा कोर्ट लाया गया। कोर्ट ने मेडिकल रिपोर्ट देखते हुए मारपीट के आरोप को ख़ारिज कर दिया। इसके साथ ही लगभग 10 घंटे चली बहस के बाद कोर्ट ने पुलिस रिमांड ख़ारिज करते हुए अर्नब को 14 दिन के लिये न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। उल्लेखनीय है कि गत मई 2018 में इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाईक (53) ने अलीबाग स्थित कावीर फार्म हाउस में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। वहीं पर उनकी मां कुमुद नाईक (84) का शव भी बरामद हुआ था। इस मामले में अलीबाग पुलिस ने प्राथमिक मामला दर्ज कर जांच शुरू किया था। घटना स्थल से पुलिस को एक सुसाइड नोट बरामद हुआ था जिसमे आरोप लगाया गया था कि पत्रकार अर्नब गोस्वामी, स्काय मीडिया फिरोज शेख और स्मार्ट वर्क्स कंपनी के नितेश सारडा द्वारा उनके किए गए काम के पैसे नहीं दिए जाने के कारण उसने परेशान होकर आत्महत्या कर लिया गया। इस मामले में अलीबाग पुलिस ने जांच करते हुए 2019 में फ़ाइल बंद कर दिया था। इसके बाद इस वर्ष मई में महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने आर्किटेक्ट अन्वय नाईक की बेटी आज्ञा नाईक की नई शिकायत के आधार पर फिर से जांच का आदेश दिये जाने की घोषणा की थी। देशमुख ने कहा कि आज्ञा ने आरोप लगाया है कि अलीबाग पुलिस ने गोस्वामी के चैनल द्वारा बकाया भुगतान नहीं करने के मामले में जांच नहीं की। उसका दावा है कि इस कारण ही उसके पिता और दादी ने मई 2018 में आत्महत्या कर ली थी। हिन्दुस्थान समाचार/ ज्योति/रामानुज-hindusthansamachar.in