Women workers opened front against BHEL management, protest continued on second day
Women workers opened front against BHEL management, protest continued on second day
मध्य-प्रदेश

महिलाकर्मियों ने भेल प्रबंधन के खिलाफ खोला मोर्चा, दूसरे दिन भी प्रदर्शन जारी

news

भोपाल, 09 जनवरी (हि.स.)। भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (भेल) द्वारा महिला श्रमिक कल्याण ठेका सहकारिता संस्था से जुड़ी महिलाकर्मियों का नौकरी से निकाल दिया। अब नौकरी से निकाली गई महिलाकर्मियों ने भेल प्रबंधन के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। शनिवार को सुबह दूसरे दिन भी महिलाएं भेल कारखाने के फाउंड्री गेट-5 पर पहुंच गई और नौकरी से निकाले जाने का विरोध करते हुए भेल प्रबंधन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इससे पहले शुक्रवार को भी दोपहर में महिलाओं ने यहां प्रदर्शन किया था। प्रदर्शनकारी महिलाओं का कहना है कि जब तक हमें फिर से नौकरी पर नहीं लिया जाएगा, तब तक वे भेल कारखाने के सामने बैठे रहेंगे। गौरतलब है कि करीब 30 साल से संस्था से जुडक़र भेल के अलग-अलग विभागों में 104 महिलाएं काम कर रही हैं। गत 31 दिसम्बर को वर्क ऑर्डर का नवीनीकरण नहीं करते हुए भेल प्रबंधन ने उन्हें नौकरी पर रखने से मना कर दिया था। इसके बाद सालों से काम कर रही महिलाओं ने भेल प्रबंधन के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए धरना-प्रदर्शन शुरू किया है। शुक्रवार को दोपहर 12 बजे सभी महिलाएं भेज कारखाने के सामने एकत्रित हुई और जोरदार प्रदर्शन किया। इसके बाद शनिवार को भी उनका प्रदर्शन जारी है। सुबह से महिलाएं भेल कारखाने के सामने बैठी हैं और प्रबंधन के खिलाफ नारेबाजी कर रही हैं। प्रदर्शनकारी महिलाओं का कहना है कि पहले भेल प्रबंधन ने बहाना बनाया कि नए नियम बने हैं, इसलिए नौकरी पर नहीं रख सकते। संस्था की प्रशासक लता गिल के अनुसार, महिला कर्मियों को नौकरी से निकालने के भेल प्रबंधन लगातार बहाने करता रहा। पहले भेल प्रबंधन ने कोरोना का बहाना कर हर महिला कर्मचारियों के मासिक वेतन से 1600 रुपये कम करने की बात कही। प्रबंधन की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने से वेतन में कटौती की सहमति दे दी, लेकिन प्रबंधन ने सभी महिला कर्मचारियों को ड्यूटी आने का मना कर दिया। उनसे बार-बार अलग-अलग दस्तावेज मांगें गए और जब सभी कागजात उपलब्ध करा दिए तो भी उन्हें पर नहीं लिया जा रहा है। इसलिए हमें प्रदर्शन करने के लिए मजबूर होना पड़ा। इस संबंध में भेल के जनसम्पर्क अधिकारी राघवेंद्र शुक्ल का कहना है कि जब तक भेल कॉर्पोरेट से सोसायटी की महिलाओं को नौकरी पर फिर से वापस लेने पर अनुमति नहीं मिलेगी, तब तक उन्हें नौकरी पर नहीं रख सकते हैं। हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश-hindusthansamachar.in