कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में बढ़ोत्तरी के साथ ही सुधार का स्तर भी बढ़ा

  कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में बढ़ोत्तरी के साथ ही सुधार का स्तर भी बढ़ा
with-the-increase-in-the-number-of-corona-infected-patients-the-level-of-improvement-also-increased

रतलाम,29 अप्रैल (हि.स.)। कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में कोई विशेष कमी नहीं आ रही है। मेडीकल कालेज सहित अन्य कोविड हॉस्पिटलों में मरीजों की संख्या निरंतर बड़ रही है। गुरूवार को मिले मेडीकल बुलेटिन के अनुसार 296 मरीज संक्रमित पाए गए। मेडीकल कालेज में 742 मरीजों के सेम्पल की रिपोर्ट तथा सुपराटेक से 628 मरीजों की सेम्पल रिपोर्ट आना बाकी है। भर्ती एक्टिव मरीजों की संख्या 1720 है। कोरोना संक्रमित मृतकों की संख्या 185 हो गई है। बुधवार को 133 मरीज डिस्चार्ज हुए। वहीं गुरूवार को 11 मरीज डिस्चार्ज हुए। संकल्प लिया मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ. जितेंद्र गुप्ता ने बताया कि डिस्चार्ज होते समय इन लोगों ने कॉविड के नियमों का पालन करने तथा अपने परिजनों को भी सभी नियमों का पालन कराने का संकल्प लिया। डिस्चार्ज हुए लोगों ने मेडिकल कॉलेज की व्यवस्थाओं पर संतोष व्यक्त करते हुए यहां के स्टाफ को धन्यवाद दिया। मेडीकल कालेज में सभी बेड फुल श्री गुप्ता ने बताया कि आज मेडिकल कॉलेज में 44 नए मरीज भर्ती हुए। गुरुवार की स्थिति में मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में कुल बिस्तरों की संख्या 550, आईसीयू बेड 56 सभी फुल है, एचडीयू में 172 बैड सभी फुल हैं। ऑक्सीजन बेड 120 सभी फुल हैं। नॉन ऑक्सीजन बैड 202 में से 128 पर पेशेंट भर्ती हैं। कुल 476 पेशेंट हॉस्पिटल में भर्ती है इनमें 298 पॉजीटिव हैं तथा शेष सस्पेक्टेड या ऑक्सीजन लेवल वाले हैं। कुल पॉजिटिव डैथ 8 (05 रतलाम, 01 झाबुआ, 01 मंदसौर, 01 धार )। हॉस्पिटल में रिक्त बेड 74 है। उन्होंने बताया कि मरीजों एवं उनके परिजनों को सभी सुविधाएं प्रदान करने के लिए किए जा रहे प्रयासों में निरंतर वृद्धि की जा रही है। पॉजिटिव मरीजों की संख्या 10 हजार से अधिक मेडीकल बुलेटिन केे अनुसार अभी 1 लाख 21 हजार 711 संदिग्ध केस की जांच की जा चुकी है, जिसमें 10 हजार 272 सेेम्पल पॉजिटिव पाए गए है। आईसोलेशन में भर्ती मरीजों की संख्या 1720, क्वारंटीन किए गए संदिग्ध की फालोअप संख्या 1269, कंटेनमेंट एरिये की संख्या 2690 तक पहुंच गई है। प्रशासन हर संभव प्रयास कर रहा है कलेक्टर गोपालचंद डाड ने बताया कि आक्सीजन तथा रेडमेसिविर इंजेक्शन की कमी को दूर करने के लिए लगातार प्रयास किए जा रहे है। साथ ही लोगों से आग्रह किया जा रहा है कि इस संक्रमण काल में लोग घर में ही रहे, क्योंकि काफी संख्या में मरीज कोरोना से ग्रसित हो रहे है। साधनों से देखते हुए हर व्यक्ति को सतर्क रहने की आवश्यकता है। प्रशासन अपने स्तर पर सभी की हर संभव सहायता कर रहा है और चिकित्सा संसाधन उपलब्ध करवाने के पूरे प्रयास कि जा रहे है, ताकि सभी का उपचार हो सके। हिन्दुस्थान समाचार / शरद जोशी