पत्नी और बेटे ने पूरी की रिक्शा चालक रामू की अंतिम इच्छा

पत्नी और बेटे ने पूरी की रिक्शा चालक रामू की अंतिम इच्छा
wife-and-son-fulfill-rickshaw-driver-ramu39s-last-wish

सिवनी, 07 मई(हि.स.)। बहुत से लोग ऐसे होते हैं जो दुख में सुख खोज लेते हैं,और कुछ ना होने के बावजूद भी उनकी भावना यह होती है कि अगर भगवान ने उन्हें जीवन में कुछ दिया तो वह लोगों की सेवा में अपना सब कुछ न्यौछावर कर देंगे। बरघाट रोड टैगोर वार्ड निवासी रिक्शा चालक रामू यादव के बीते दिनों मौत हो गई थी। परिवार के लोगों ने मानव सेवा संस्थान को सहयोग प्रदान कर उसकी अंतिम इच्छा पूरी कर दी। रामू यादव बच्चों को स्कूल पहुंचाने का कार्य 30 से अधिक वर्षो से कर रहा था। लॉकडाउन के दौरान उसकी इच्छा थी कि नगर के कोतवाली निरीक्षक महादेव नागोतिया मानव सेवा संस्थान के माध्यम से अच्छा कार्य कर रहे है,और वह भी इसमें सहयोग देना चाहता था। लेकिन 24 अप्रैल को कोरोना महामारी के चलते उसका निधन हो गया। जब उसका निधन हुआ तो उसके जेब में 500 रूपये की राशि थी, रामू की इच्छा थी कि यह राशि कोरोना पीडितों को मानव सेवा संस्थान के माध्यम से उपचार के लिये दी जाये। उनके बेटे और पत्नी ने गुरूवार को कोतवाली थाना प्रभारी महादेव नागोतिया को राशि भेंट की। निश्चित ही रामू के इस कार्य की जहां जनमानस में भूरी-भूरी प्रशंसा की गई है,वहीं दूसरी ओर कहा गया है कि रामू जैसे लोग अगर दुनिया में हो तो निश्चित ही कोई भी व्यक्ति दुखी नही होगा। हिन्दुस्थान समाचार/रवि