पश्चिमी हवाओं ने लगाया मानसून पर ब्रेक, अब कुछ दिन देरी से आएगा

 पश्चिमी हवाओं ने लगाया मानसून पर ब्रेक, अब कुछ दिन देरी से आएगा
western-winds-put-brake-on-monsoon-now-it-will-be-delayed-by-a-few-days

- दिन भर छाए रहे बादल, दोपहर और शाम को हुई रिमिझिम बारिश ग्वालियर, 15 जून (हि.स.)। ग्वालियर-चम्बल अंचल में 15 से 16 जून के बीच मानसून आने की संभावना जताई गई थी, लेकिन अचानक हवाओं का रुख पश्चिमी हो जाने से मानसून के आगे बढऩे पर ब्रेक लग गया है। इस वजह से अंचल के लोगों को झमाझम मानसूनी बारिश के लिए दो से तीन दिन और इंतजार करना पड़ सकता है। हालांकि मध्यप्रदेश के ऊपर से गुजर रही मानसूनी द्रोणिका के प्रभाव से अंचल में कहीं हल्की तो कहीं मध्यम गति से बारिश हो रही है। इसी के चलते मंगलवार को दोपहर में जहां ग्वालियर शहर में भी हल्की बारिश हुई तो वहीं शाम करीब सवा सात बजे के बाद एक बार फिर रिमझिम बारिश शुरू हो गई, जो रुक-रुककर देर रात तक जारी रही। मंगलवार को शहर के आसमान में कभी आंशिक तो कभी घने बादल छाए रहे। इसके चलते कभी तेज धूप निकली तो कभी सूरज बादलों के आगोश में समाया रहा। अपरान्ह करीब तीन बजे से लगभग दस मिनट तक रिमझिम बारिश हुई। इस दौरान शहर में मात्र 0.4 मिली मीटर बारिश दर्ज की गई। इसके बाद शाम करीब सवा सात बजे से एक बार फिर बादलों ने बरसना शुरू किया। इसके बाद रुक-रुककर कभी रिमझिम तो कभी हल्की बूंदाबांदी देर रात तक जारी रही। स्थानीय मौसम विज्ञानी सी.के. उपाध्याय के अनुसार इस समय मानसून की उत्तरी सीमा दीव, सूरत, नंदुनबार, भोपाल, नौगांव, हमीरपुर, बाराबंकी, बरेली, सहारनपुर, अम्बाला और अमृतसर से होकर गुजर रही है, जबकि बंगाल की खाड़ी से आया कम दबाव का क्षेत्र इस समय पश्चिमी झारखंड में सक्रिय है, जिसका असर यहां तक नहीं हो पा रहा है क्योंकि यहां हवाएं पश्चिम और उत्तर पश्चिम से आ रही हैं। इस कारण कम दबाव का क्षेत्र उस दिशा और गति से आगे नहीं बढ़ पा रहा है, जिस दिशा और गति से उसे आगे बढऩा चाहिए था। इस वजह से ग्वालियर-चम्बल सहित मध्यप्रदेश के अन्य हिस्सों में मानसून पहुंचने में दो से तीन दिन और इंतजार करना पड़ सकता है। हालांकि एक निम्न स्तरीय द्रोणिका पश्चिमी व पूर्वी राजस्थान से उत्तर पश्चिमी मध्यप्रदेश, दक्षिणी उत्तर प्रदेश, कम दबाव वाले क्षेत्र पश्चिमी झारखंड से होते हुए बंगाल की खाड़ी तक बनी हुई है। इसके प्रभाव से आगामी 18 जून तक अंचल में बादल आते-जाते रहेंगे। साथ ही इस दौरान कहीं बूंदाबांदी तो कहीं हल्की बारिश भी हो सकती है। हिन्दुस्थान समाचार/शरद