उज्जैन: सरकारी कब्जे में ली गई 400 करोड़ रुपये की भूमि से हटाया गया अतिक्रमण

उज्जैन: सरकारी कब्जे में ली गई 400 करोड़ रुपये की भूमि से हटाया गया अतिक्रमण
ujjain-encroachment-removed-from-government-occupied-land-of-rs-400-crore

उज्जैन , 07 मार्च (हि.स.)। कलेक्टर आशीष सिंह के निर्देश पर विगत 11 जनवरी को भूमाफियाओं पर कड़ी कार्यवाही करते हुए नरेश जिनिंग मील की 4.934 हेक्टेयर जमीन को कब्जे में लिया गया था। इस भूमि से रविवार को अवैध निर्माण और अतिक्रमण हटा दिया गया। इस बेशकीमती जमीन का बाजार मूल्य लगभग 400 करोड़ रुपये से अधिक है। जिला प्रशासन की ओर से एडीएम नरेन्द्र सूर्यवंशी, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अमरेन्द्र सिंह, एसडीएम संजीव साहू व नगर निगम की टीम द्वारा आज इस भूमि को अतिक्रमण मुक्त कराया गया। एडीएम नरेन्द्र सूर्यवंशी ने बताया कि जिले में निरन्तर भूमाफियाओं के खिलाफ कार्यवाही करते हुए करोड़ों रुपये की जमीन शासकीय घोषित करते हुए उसका कब्जा प्राप्त किया जा रहा है। आज जिस जमीन से अतिक्रमण हटाया गया, वह जमीन उज्जैन-आगर रोड पर नगर के बीचोंबीच स्थित है और अत्यन्त ही कीमती भूमि है, जिस पर भूमाफिया वर्षों से कब्जा जमाये हुए थे। उक्त जमीन पर शीतल पेय कंपनी, शराब की दुकान, पान की दुकान, आटाचक्की, टायर, इलेक्ट्रीक उपकरण की दुकान, प्रिंटिंग प्रेस, मेडिकल, नमकीन, होटल आदि की 26 व्यवसायिक दुकान थी, जो जबरन उक्त जमीन पर कब्जा जमाये बैठे थे। उल्लेखनीय है कि ताकायमी भूमि पर वर्तमान में कोई ऑईल मील या जिनिंग फैक्टरी का कार्य नहीं चल रहा है। उक्त भूमि सर्वे नम्बर 1359/1 एवं 1359/2/3 रकबा 4.934 हेक्टेयर पर से औद्योगिक गतिविधि पूर्णत: समाप्त हो जाने से उक्त भूमि को मप्र भूराजस्व संहिता-1959 की धारा-181 के तहत ताकायमी भूमि का कारखाना पट्टा निरस्त करते हुए भूमि को शासकीय अभिलेख में दर्ज करने के निर्देश दिये गये थे। हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश