मध्य-प्रदेश

परिवहन विभाग ने आठ दिन में 545 बसों की जांच की, 13 लाख से अधिक वसूले

news

मुरैना, 25 फरवरी (हि.स.)। परिवहन विभाग द्वारा लगातार यात्री बसों की चेकिंग की जा रही है। बीते 8 दिवस में 545 बसों की चेकिंग की गई और अनियमितताएं मिलने पर 6 बसों के परमिट निरस्त कर दिये। वहीं बीमा, फिटनिस, लाइसेंस, परमिट न होने पर चालानी कार्यवाही करते हुये 13 लाख 39 हजार 278 रुपये का राजस्व वसूल किया गया। यह कार्यवाही निरंतर जारी है। गुरुवार को भी क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी अर्चना परिहार नहर किनारे अवैध व अनियमित रूप से संचालित यात्री बसों की तलाश में भ्रमण कर रही हैं। दरअसल, गत दिनों सीधी जिले में हुई बस दुर्घटना के बाद यात्री बसों की अनियमितताओं को रोकने के लिये परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत तथा परिवहन आयुक्त मुकेश जैन, उपायुक्त अरविंद सक्सैना को सडक़ों पर उतरना पड़ा। जिससे प्रदेश का सम्पूर्ण परिवहन अमला अनियमित व अवैध रूप से संचालित यात्री बसों की खौज में जुट गया। मुरैना के क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी अर्चना परिहार एवं परिवहन अधिकारी सचदेव सिंह सिकरवार के नेतृत्व में दल बनाकर बसों की चेकिंग की गई। मुरैना में 17 फरवरी से अब तक 8 दिन में 545 बसों की चेकिंग की गई। जिसमें क्षमता से अधिक सवारियों का परिवहन किये जाने पर 65 बसों पर अर्थदण्ड किया गया। वहीं परमिट, बीमा, फिटनिस, चालक परिचालक लाइसेंस के बिना संचालित 36 बसों पर चालानी कार्यवाही की गई। एक बस की फिटनिस निरस्त कर 28 बसों को जप्त किया गया। वहीं 233 बसों पर अन्य अपराधों में चालान किये गये। इस कार्यवाही में 645288 रुपये का समन शुल्क तथा 693990 रुपये का मोटरयान कर वसूला गया। परिवहन विभाग द्वारा सबसे बड़ी कार्यवाही स्थाई परमिट से संचालित 6 बसों के परमिट निरस्त कर दिये गये हैं। इन बसों में चेकिंग के दौरान निर्धारित क्षमता से अधिक सवारी पाई गईं। हिन्दुस्थान समाचार/राजकुमार