इस बार मीठी ईद में खटास रहेगी कोरोना महामारी की

इस बार मीठी ईद में खटास रहेगी कोरोना महामारी की
this-time-the-sweet-eid-will-be-spoiled-for-corona-epidemic

29/04/2021 गत वर्ष की अपेक्षा कम हुई सूखे मेवे की मांग उज्जैन,29 अप्रैल (हि.स.)। इस बार सूखे मेवे के व्यापारियों में मीठी ईद को लेकर वह उत्साह नहीं देखने को मिल रहा है जो गत वर्ष कोरोनाकाल में था। थोक व्यापारी जुल्फिकार(बादशाह ड्रायफ्रूट्स,कमरी मार्ग)के अनुसार गत वर्ष भी कोरोनाकाल में ही मीठी ईद आई थी। उस समय लोगों ने पिछले वर्षो की अपेक्षा 35 प्रतिशत खरीदी की थी। इस वर्ष भी कोरोना में ही मीठी ईद आ रही है लेकिन गत वर्ष की अपेक्षा इस वर्ष लोगों में भय अधिक है। यही कारण है कि मीठी ईद तक शहर में करीब 20 प्रतिशत सूखे मेवों की बिक्री की संभावना मान रहे हैं व्यापारी। शहर में इस समय इंदौर से सूखे मेवे आते हैं। करीब 150 थोक एवं फुटकर व्यापारी सूखे मेवे रखते हैं। कोरोनाकाल में होम डिलेव्हरी पर सूखे मेवों की फुटकर बिक्री इस समय हो रही है। जुल्फिकार के अनुसार इस बार जो होम डिलेव्हरी हो रही है,उसमें घरों की संख्या बहुत ही कम आ रही है। एक और समस्या माल को पहुंचाने की हो रही है। गली मौहल्लों में कर्मचारी घरों को ढूंढते हुए थक रहे हैं। ऐसा होने से एक दिन में मांग के विपरित आधी डिलेव्हरी ही हो पा रही है। यह भाव है सूखे मेवों के बाजार में(प्रति किग्रा रू. में) खोपरा गोला 200 खारक 180 काजू 700 बादाम 600 पिस्ता 1200 इलाईची 2400 सिवईयों का भाव बाजार में इस समय 60 रू. प्रति किग्रा है। ------------- हिंदुस्थान समाचार/ललित ज्वेल