बारिश का मौसम और टाटा द्वारा सीवरेज पाइपलाइन के लिए खोदी जा रही सड़कें

बारिश का मौसम और टाटा द्वारा सीवरेज पाइपलाइन के लिए खोदी जा रही सड़कें
the-rainy-season-and-the-roads-being-dug-by-tata-for-the-sewerage-pipeline

नजर हटी कि दुर्घटना घटी, कौन होगा जिम्मेदार उज्जैन,07 जून(हि.स.)। शहर में प्रि मानसून एक्टिविटी प्रारंभ हो गई है। रविवार को भी जोरदार बारिश हुई। इस बारिश के चलते शहरभर में अनेक जगह खुदी सड़कों में पानी भर गया वहीं कीचड़ मच गया। चूंकि जनता कर्फ्यू के कारण शहर में आवाजाही बंद थी,इसलिए कोई सड़क दुर्घटना नहीं हुई। सोमवार से पुन: शहर अनलॉक हो गया है। ऐसे में बारिश के चलते जलजमाव और कीचड़ फैला तो गंभीर सड़क दुर्घटनाएं हो सकती हैं। गौरतलब है कि नगर निगम ने अभी तक पेंचवर्क नहीं किया है वहीं टाटा द्वारा खोदी गई सड़कों में पाइप लाइन डालने के बाद अनेक जगहों पर सीमेंट कांक्रीट नहीं किया गया है। टाटा द्वारा शहरभर में सीवरेज प्रोजेक्ट के तहत पाइप लाइन डालने का काम जारी है। मानसून अभी आना है और प्रि मानूसन एक्टिविटी के कारण शहर में बारिश रोजाना हो रही है। रविवार को हुई जोरदार बारिश के चलते टाटा द्वारा खोदी गई अनेक सड़कों में पानी भर गया। वहां पर कीचड़ फैल गया और गड्ढों में पानी भरने के कारण दूर से अंदाजा नहीं हो रहा है कि गड्ढे की गहराई कितनी है? यदि किसी वाहन चालक का वाहन कीचड़ के चलते स्लिप हो गया और वह गड्ढे में गिर गया तो गंभीर दुर्घटना हो सकती है। ज्ञात रहे टाटा के कर्मचारी गड्ढा खोदने के बाद न तो पाइप लाइन डालकर तत्काल सीमेंट कांक्रीट कर रहे हैं और न ही नगर निगम की मानीटरिंग बॉडी इस बात के लिए सतर्क दिख रही है। यह होता है बारिश पूर्व हर वर्ष बारिश पूर्व नगर निगम द्वारा शहरभर में सड़कों पर होनेवाले गड्ढों में पेंचवर्क किया जाता है। नगर निगम ने इस वर्ष उन सड़कों पर भी पेंचवर्क नहीं किया है,जहां टाटा ने सड़कें नहीं खोदी लेकिन सड़कों पर गड्ढे हो गए हैं। इस संबंध में टाटा प्रोजेक्ट के साइट इंजीनियर परमेश्वरन से चर्चा करना चाही लेकिन उन्होने कॉल रिसिव्ह नहीं किया। हिंदुस्थान समाचार/ललित ज्वेल