कोरोना संकटकाल में मेडिकल कॉलेज में मौत का आंकड़ा पहुंचा 100 पर

कोरोना संकटकाल में मेडिकल कॉलेज में मौत का आंकड़ा पहुंचा 100 पर
the-death-toll-in-the-medical-college-reached-100-during-the-corona-crisis

- शिवपुरी मेडिकल कॉलेज में 405 भर्ती मरीजों में से 100 की हुई मौत - इलाज के दौरान मौत का आंकड़ा 25 प्रतिशत शिवपुरी, 11 जून (हि.स.)। शिवपुरी कोरोना संकट की दूसरी लहर में आनन-फानन में खोले गए शिवपुरी मेडिकल कॉलेज में कोरोना संकटकाल में भर्ती किए गए 405 मरीजों में से 100 लोगों की मौत हो चुकी है। शिवपुरी मेडिकल कॉलेज के नोडल ऑफिसर द्वारा जारी किए गए हेल्थ बुलेटिन में बताया गया है कि कोरोना की दूसरी लहर में खोले गए शिवपुरी मेडिकल कॉलेज में भर्ती किए गए 405 मरीजों में से 10 जून तक 100 मरीजों की मौत हो चुकी है। मेडिकल कॉलेज से दी गई जानकारी में बताया गया कि 10 जून तक 405 मरीज भर्ती किए गए जिसमें से 249 मरीज डिस्चार्ज किए गए और इनमें से 100 मरीजों की मौत हो चुकी है। वर्तमान में कोरोना के आइसोलेशन वार्ड में मात्र 4 मरीज और आईसीयू वार्ड में केवल 5 मरीज भर्ती हैं। इस तरह से कुल 9 मरीज वर्तमान में भर्ती हैं। गौरतलब है कि मेडिकल कॉलेज में भर्ती मरीजों के इलाज में कई परिवारों ने आरोप लगाए थे कि यहां पर सही इलाज और देखभाल नहीं हुई। एक महिला के दरवाजे पर बेहोशी के हालातों में भर्ती में देरी और बाद में इलाज के दौरान मौत के मामले को तो मप्र मानव अधिकार आयोग ने संज्ञान में भी लिया था। इलाज के दौरान मौत का आंकड़ा 25 प्रतिशत- दो साल पहले लगभग 200 करोड़ रुपए की लागत से बनाए गए मेडिकल कॉलेज में कोरोना संकट काल में लोगों को कोई भी स्वास्थ्य सुविधाएं मार्च महीने तक नहीं मिल रही थीं। इस पर सवाल उठे तो यहां पर आनन-फानन में अप्रैल महीने में आइसोलेशन वार्ड के रूप में 120 बेड स्थापित किए गए जबकि आईसीयू में 40 बेड स्थापित किए गए। इस तरह से इस मेडिकल कॉलेज में कोरोना संकटकाल में मरीजों को इलाज देने की प्रक्रिया शुरू की गई। जिला अस्पताल में गंभीर रूप से बीमार हुए मरीजों को शिवपुरी मेडिकल कॉलेज में रैफर किया गया। यहां पर 10 जून तक कुल 405 मरीजों पर भर्ती किए गए। इनमें से 100 मरीज इलाज के दौरान मर चुके हैं ऐसी जानकारी मेडिकल कॉलेज के नोडल ऑफिसर द्वारा जारी अपने हेल्थ बुलिटिन में दी है। इस तरह से देखा जाए तो यहां पर मौत का आंकड़ा भर्ती किए गए मरीजों में लगभग 25 प्रतिशत का है जिनकी इलाज के दौरान यहां पर मौत हुई। कोरोना कम हुआ तो अब खाली पड़े हैं बेड- शिवपुरी मेडिकल कॉलेज में इस समय बेड खाली है क्योंकि कोरोना कम हो चुका है। पिछले कुछ दिनों के आंकड़े उठाए जाएं तो शिवपुरी में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या कम हुई है। इसी बीच वर्तमान में शिवपुरी मेडिकल कॉलेज में आइसोलेशन के 120 बैड में से मात्र 4 मरीज यहां भर्ती हैं। इसी तरह आईसीयू में 40 बेड है मगर इनमें से मात्र 5 मरीज यहां पर भर्ती हैं। हिन्दुस्थान समाचार/ रंजीत गुप्ता