the-atmosphere-of-silence-remained-during-the-lockout-in-ratlam
the-atmosphere-of-silence-remained-during-the-lockout-in-ratlam
मध्य-प्रदेश

रतलाम में तालाबंदी के दौरान रहा सन्नाटे का माहौल

news

-रविवार को भी बंद रहेगा शहर रतलाम, 03 अप्रैल(हि.स.)। कोरोना के बढ़ते मामलों पर रोक लगाने के लिए देश के विभिन्न शहरों में तालाबंदी प्रभावशील की गई है। इसी के तहत रतलाम में भी शुक्रवार रात 10 बजे से सोमवार सुबह 6 बजे तक की अवधि केे लिए तालाबंदी की गई है। शनिवार को तालाबंदी के कारण पूरे शहर में सन्नाटे का माहौल रहा। केवल सरकारी दफ्तर, रेल तथा बस स्टेण्ड पर यात्रियों की चहल-पहल देखी गई। किसी भी यात्री को इन स्थानों पर जाने के लिए परेशानी नहीं हुई। लोगों को आसानी सेे साधन मिले। जानकारों का कहना है कि कोरोना की दूसरी लहर अत्यधिक खतरनाक है। कोरोना संक्रमित मरीजों के मरीज दिनो-दिन बढ़ते जा रहे हैं। कोरोना की पहली लहर में इतने मरीज नहीं थे, जितने की वर्तमान में मरीज अस्पताल पहुंच रहे हैं। प्रशासन ने कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए सख्त कदम उठाए हैं, यदि नागरिकों ने गंभीरता से लिया तो कोरोना के बढ़ते मरीजों की संख्या पर काबू पाया जा सकता है, अन्यथा मरीजों की संख्या निरंतर बेकाबू हो जाएगी और लोग परेशान हो जाएंगे, ऐसा जानकारों का कहना है। इसलिए हर स्तर पर मास्क लगाओं और सामाजिक दूरी का पालन करने का नारा दिया जा रहा है। नगर निगम सहित प्रशासनिक अमला मास्क लगाओ अभियान के तहत सारे शहर में जागरूकता अभियान चलाए हुए हैं। प्रदेश में रतलाम आठवें स्थान पर प्रदेश में रतलाम का नंबर अभी भी आठवां बना हुआ है, जहां कोरोना मरीजों की संख्या अधिक है। जिले सेे जारी होने वाला मेडिकल बुलेटिन दो-तीन दिनों से जारी नहीं हो पाया, जिसके कारण अधिकृत जानकारी नहीं मिल पाई, जबकि लोगों को कोरोना संक्रमित मरीजों की जानकारी देखने की उत्सुकता बनी रहती है और वह मीडिया कार्यालयों पर संपर्क भी करते है तथा वाट्सएप पर भी प्रतिक्षा करते है, लेकिन जानकारी नहीं मिल पाने के कारण प्रकाशित नहीं हो पा रही है। राज्य बुलेटिन के अनुसार शुक्रवार को रतलाम में 85 संक्रमित मरीज पाए गए। कुल मिलाकर 5972 संक्रमित मरीजों की संख्या पहुंच गई है। अभी तक 94 कोरोना मरीजों की मृत्यु हो चुकी है तथा शुक्रवार को ही 83 मरीज ठीक हुए। अभी वर्तमान में मेडीकल कालेज में 652 एक्टिव मरीज उपचारार्थ भर्ती है। हिन्दुस्थान समाचार/ शरद जोशी