उज्जैन जिले में रविवार को रहेगा टोटल लॉकडाउन
उज्जैन जिले में रविवार को रहेगा टोटल लॉकडाउन
मध्य-प्रदेश

उज्जैन जिले में रविवार को रहेगा टोटल लॉकडाउन

news

उज्जैन, 01 अगस्त (हि.स.)। कोरोना संक्रमण को रोकने के उद्देश्य से कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी आशीष सिंह ने शनिवार को धारा-144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी करते हुए आगामी आदेशपर्यन्त प्रत्येक रविवार को जिला उज्जैन सीमा क्षेत्र के नगर निगम, नगर पालिका, नगर परिषद एवं नगर पंचायत क्षेत्र में सम्पूर्ण लॉकडाउन सोमवार प्रात: 6 बजे तक लागू किया है। कलेक्टर द्वारा जारी आदेश के अनुसार लॉकडाउन नगरीय सीमा क्षेत्रों में शनिवार की रात्रि 10 बजे से सोमवार प्रात: 6 बजे तक लागू रहेगा। इस अवधि में सभी व्यावसायिक प्रतिष्ठान बन्द रहेंगे। मॉर्निंग वॉक भी पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा। साथ ही सभी किराना, फल, सब्जी आदि की दुकानें भी पूर्णत: प्रतिबंधित रहेंगी। इसी तारतम्य में 2 अगस्त रविवार को उज्जैन नगरीय क्षेत्र एवं जिले के सभी कस्बों में लॉकडाउन रहेगा। कलेक्टर ने रक्षाबन्धन त्यौहार के समय लगने वाली दुकानों के बीच कम से कम छह फीट की दूरी रखना अनिवार्य किया है। उपरोक्त प्रतिबंध इमरजेंसी चिकित्सा, इमरजेंसी ड्यूटी, मेडिकल दुकान, अस्पताल, दूध/पेपर बांटने वाले तथा मीडियाकर्मियों पर लागू नहीं होगा। कलेक्टर ने उक्त आदेश का पालन करने की जिले के सभी नागरिकों से अपील की है। उन्होंने सभी एसडीएम एवं अनुविभागीय पुलिस अधिकारियों को अपने-अपने क्षेत्र में आदेश का कड़ाई से पालन करवाने के निर्देश दिये हैं। आदेश का उल्लंघन पाये जाने पर सुसंगत धाराओं के तहत वैधानिक कार्यवाही की जायेगी। जिले में सार्वजनिक स्थल पर नहीं होंगे धार्मिक कार्य, त्यौहार के आयोजन कलेक्टर आशीष सिंह ने जिले में कोरोना संक्रमण के बचाव एवं कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए दण्ड प्रक्रिया संहिता-1973 की धारा-144(2) के तहत उज्जैन जिले में प्रतिबंधात्मक आदेश जारी करते हुए उज्जैन जिले की सम्पूर्ण राजस्व सीमा क्षेत्र में कोई भी धार्मिक कार्य, त्यौहार का आयोजन सार्वजनिक स्थल पर नहीं करने के निर्देश दिये हैं। इस दौरान न तो कोई धार्मिक जुलूस या रैली निकाली जायेगी, न ही सार्वजनिक स्थान पर किसी प्रकार की मूर्ति, झांकी आदि स्थापित की जायेगी। सभी सम्बन्धित व्यक्तियों से अपेक्षा की गई है कि वे अपने-अपने घरों में रहकर ही पूजा-उपासना करें। कलेक्टर के निर्देश अनुसार रक्षाबन्धन पर्व, अन्तिम श्रावण सोमवार, श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व, गोगा नवमी, चौकी धुलाई एवं ताजिया/मोहर्रम पर्व, गणपति स्थापना, विसर्जन पर्व, डोल ग्यारस एवं अनन्त चतुर्दशी पर्व के दौरान सार्वजनिक स्थलों पर कार्यक्रम किया जाना प्रतिबंधित किया गया है। इन पर्वों के दौरान धार्मिक जुलूस, चल समारोह आदि निकाला जाना भी प्रतिबंधित किया गया है। इसी तरह विवाह समारोह में मेहमानों की संख्या 20 से अधिक नहीं होगी। इसमें वर एवं वधू पक्ष के अधिकतम 10-10 व्यक्ति शामिल होंगे। अन्तिम संस्कार व उठावने से सम्बन्धित कार्यक्रमों में अधिकतम 20 व्यक्ति सम्मिलित हो सकेंगे। हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश/केशव-hindusthansamachar.in