strengthen-referral-system-for-better-treatment-of-corona-patients-commissioner-saxena
strengthen-referral-system-for-better-treatment-of-corona-patients-commissioner-saxena
मध्य-प्रदेश

कोरोना मरीजों के बेहतर इलाज के लिये रेफरल सिस्टम मजबूत करें : कमिश्नर सक्सेना

news

ग्वालियर, 06 अप्रैल (हि.स.)। कोरोना संक्रमित मरीजों को बेहतर इलाज मुहैया कराने के लिये मरीजों के रेफरल सिस्टम को मजबूत करें। इंसीडेंट कमाण्डर के साथ संलग्न चिकित्सक यह तय करें कि जांच में संक्रमित पाया गया कोरोना मरीज किस अस्पताल में भर्ती किया जाना उचित है। इस संबंध में वे जेएएच के नोडल अधिकारी से संपर्क कर मरीज को जल्द से जल्द भर्ती कराने की कार्रवाई करें। यह बात संभागीय कमिश्नर आशीष सक्सेना ने मंगलवार को सरकारी एवं निजी अस्पतालों के चिकित्सकों की संभाग स्तरीय कार्यशाला को संबोधित करते हुए कही। कोरोना मरीजों को बेहतर से बेहतर स्वास्थ्य सेवायें मुहैया कराने के उद्देश्य से मंगलवार को जीआर मेडीकल कॉलेज में चिकित्सकों की संभाग स्तरीय कार्यशाला का आयोजन किया गया, जिसमें खासतौर पर सभी कोरोना मरीजों को चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के लिये अस्पताल प्रबंधन, रेफरल सिस्टम एवं निर्धारित प्रोटोकॉल के तहत मरीजों के इलाज पर विचार मंथन हुआ। संभाग आयुक्त सक्सेना ने कहा कि हमारा रेफरल सिस्टम इतना मजबूत हो कि मरीज की स्थिति बिगडऩे से पहले उसको बेहतर से बेहतर इलाज मिल जाए। उन्होंने कहा कि किस मरीज को होम आइसोलेशन, किसे कोविड केयर सेंटर, किसे जिला चिकित्सालय और किसको सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में भर्ती कराया जाना है। इसकी जवाबदेही इंसीडेंट कमाण्डर के साथ संलग्न चिकित्सक की होगी। चिकित्सक जेएएच के नोडल अधिकारी से समन्वय स्थापित कर कोविड मरीजों को भर्ती कराएँ। रेफरल व्यवस्था ऐसी हो जिससे सुपर स्पेशिलिटी में गंभीर मरीज ही भर्ती हों, साथ ही जिन मरीजों की सुपर स्पेशिलिटी में स्थिति ठीक हो जाए उन्हें अन्य अस्पताल में शिफ्ट करने का काम भी करें, जिससे अन्य जरूरतमंद मरीजों का इलाज सुपर स्पेशिलिटी में कराया जा सके। उन्होंने निर्देश दिए कि कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ रहा है। इसलिये सरकारी और निजी अस्पतालों के बीच बेहतर समन्वय जरूरी है। जेएएच के अधीक्षक डॉ. आरके एस धाकड़ ने कार्यशाला में कहा कि सरकारी एवं निजी चिकित्सक एकजुट होकर काम करें, जिससे कोरोना के खिलाफ जंग जीती जा सके। उन्होंने संभाग के सभी जिलों में स्थित आईसीयू का उपयोग कर कोरोना मरीजों का इलाज करने को कहा। संयुक्त संचालक स्वास्थ्य सेवायें डॉ. आर के दीक्षित ने कोरोना मरीजों के इलाज के लिये निर्धारित प्रोटोकॉल पर विस्तार से प्रकाश डाला। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मनीष शर्मा ने भी अस्पताल प्रबंधन एवं मेडीकल ट्रीटमेंट के बारे में बताया। इस अवसर पर विभिन्न निजी अस्पतालों के चिकित्सकों ने भी अपने अनुभव बाँटे। साथ ही कोरोना के खिलाफ चल रही जंग में पूर्ण सहयोग देने का भरोसा दिलाया। हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश/मयंक