चक्रतीर्थ पर पहुंचा लकड़ियों का स्टॉक, मिली राहत

चक्रतीर्थ पर पहुंचा लकड़ियों का स्टॉक, मिली राहत
stock-of-wood-reached-chakratirth-relief

उज्जैन 29 अप्रैल (हि.स.)। शहर का चक्रतीर्थ श्मसान घाट अंतिम संस्कार के लिए लकड़ी कंडों की कमी से जूझ रहा था। गुरुवार को बड़ी मात्रा में लकड़ियों का स्टॉक चक्रतीर्थ पहुंचा है, जिससे श्मसान घाट प्रबंधन को राहत मिली है। कोरोना संक्रमण काल में अचानक मरने वालों की संख्या का ग्राफ बढ़ता जा रहा है। शवों के अंतिम संस्कार के लिए शिप्रा तट स्थित रामघाट, त्रिवेणी स्थित मोक्षधाम और ओखलेश्वर स्थित श्मशान घाट पर लगातार 24 घंटे अंतिम संस्कार का क्रम जारी है। श्मशान घाटों पर हालात ऐसे हैं कि शवों को जमीन पर रखकर जलाया जा रहा है। लगातार चक्रतीर्थ पर अंतिम संस्कार के लिए पहुंच रहे शवों के चलते लकड़ी कंडो की कमी भी होने लगी थी। जिसके चलते जन सहयोग और प्रशासन द्वारा वन विभाग की मदद से लकडिय़ों का प्रबंध कराया जा रहा है। बुधवार को चक्रतीर्थ पर बड़ी मात्रा में लकडिय़ों का स्टॉक ट्रक में भरकर पहुंचा। आज शहर के दो अन्य श्मशान घाटों पर भी लकड़ी और कंडो का स्टॉक पहुंच जाएगा। धार्मिक नगरी में पहली बार ऐसे हालात बने हैं कि श्मशान घाटों से लेकर कब्रस्तानो तक शवों के लगातार पहुंचने का मंजर दिखाई दे रहा है। हिंदुस्थान समाचार/गजेंद्र सिंह तोमर