भगोरिया में उड़ रही सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां

भगोरिया में उड़ रही सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां
social-distortion-is-flying-in-bhagoria

लापरवाही कहीं भारी न पड़ जाए झाबुआ, 24 मार्च (हि.स.)। पश्चिमी मध्यप्रदेश के गुजरात और राजस्थान की सीमा से लगे लगे झाबुआ, आलीराजपुर जिलो में आदिवासी समुदाय का लोकपर्व भगोरिया की शुरुआत हो गई है। होली तक चलने वाले इस उत्सव के दौरान जिलो के विभिन्न स्थानों के हॉट बाजारों में पिछले दिनों से भारी भीड़ उमड़ती हुई देखी गई है। प्रशासनिक सख्ती की वजह से इस वर्ष इन हाट बाजार में कही-कही कम भीड़ दिखाई दे रही है, किन्तु अधिकतर जगहों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न करते हुए हुजूम का हुजूम उमड़ता हुआ नजर आ रहा है। भगोरिया में आज तीसरे दिन भी जिलो के हाट बाजारों में भीड़ इकट्ठा हुई है, और सभी स्थानों पर शासन की गाइड लाइन की धज्जियां उड़ाई गई है। भीड़ भरे स्थानों में दो गज छोड़ कर आधा फिट की दूरी का भी पालन नहीं हो पा रहा है और नही अनिवार्य रूप से मास्क लगाए जाने का पालन किया जा रहा है। इस सारी स्थिति को लेकर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी भी लापरवाह नजर आए। भगोरिया हाट के अभी 4 दिन ओर शेष है ऐसे में ये बड़ी लापरवाही कही इन जिलों को भारी न पड़ जाए। उक्त दोनों जिलो से पिछले महीनों में बड़ी संख्या में मजदूरी करने के लिए आदिवासी जन उन बड़े शहरों से वापस लौट कर आए है, जो कोरोना महामारी से अधिक प्रभावित है। अन्य राज्यो के शहरों में काम पर गए ये कामगार भगोरिया मनाने के लिए यहां फिर लोट कर आए है और यदि इनमें से कुछ लोग भी संक्रमित हुए तो यहाँ कोरोना के पैर पसारने की सम्भावना बढ़ती ही जाएगी। ऐसे में "दो गज दूरी मास्क जरूरी " के साथ अधिक लोगो के इकट्ठा होने पर सख्त पाबंदी बहुत ज्यादा जरूरी है। हिन्दुस्थान समाचार/ डॉ. उमेशचंद्र शर्मा/राजू

अन्य खबरें

No stories found.